भारत-अमेरिका व्यापारिक सम्बन्ध

अमेरिका बना भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार

अमेरिका, चीन को पछाड़ कर भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बन गया है। 2013-14 से लेकर 2017-18 तक चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार था।

मुख्य बिंदु

वाणिज्य मंत्रालय के डाटा के अनुसार वित्त वर्ष 2018-19 में भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय व्यापार लगभग 88 अरब डॉलर रहा। इसी अवधि में जबकि चीन के साथ भारत का द्विपक्षीय व्यापार 87.1 अरब डॉलर रहा। इसके अलावा अप्रैल-दिसम्बर, 2019-20 में भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय व्यापार 68 अरब डॉलर रहा, जबकि भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय व्यापार 65 अरब डॉलर रहा।

अमेरिका उन चुनिन्दा देशों में से एक है जिनके साथ भारत का व्यापार अधिशेष (trade surplus) है। दूसरी ओर, भारत के पास चीन के साथ एक बड़ा व्यापार घाटा (trade deficit) है। 2018-19 में, भारत के पास अमेरिका के साथ 16.9 बिलियन डॉलर का व्यापार अधिशेष था, जबकि चीन के साथ 53.6 बिलियन डॉलर का घाटा था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

भारत और अमेरिका के बीच किया जायेगा ‘टाइगर ट्राइंफ’ अभ्यास का आयोजन

अमेरिका और भारत के बीच त्रि-सेवा अभ्यास ‘टाइगर ट्राइंफ’ का आयोजन आंध्र प्रदेश में किया जायेगा। इस अभ्यास का आयोजन आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम तथा काकीनाडा में किया जायेगा। इसका आयोजन 13 से 21 नवम्बर, 2019 के दौरान किया जायेगा। इस अभ्यास में भारत की ओर से लगभग 1200 सैनिक हिस्सा लेंगे, जबकि अमेरिका की ओर से लगभग 500 सैनिक हिस्सा लेंगे।

यह ऐसा दूसरा अवसर होगा जब भारत थल सेना, नौसेना तथा वायुसेना सहित किसी दूसरे देश के साथ त्रि-सेवा सैन्य अभ्यास करेगा, इससे पहले भारत ने 2017 में रूस के व्लादिवोस्टोक में त्रि-सेवा युद्ध अभ्यास ‘इंद्र’ में हिस्सा लिया था।

टाइगर ट्राइंफ त्रि-सेवा अभ्यास

यह भारत और अमेरिका के बीच प्रथम त्रि-सेवा अभ्यास होगा। इसका मुख्य फोकस मानवीय सहायता तथा आपदा राहत ऑपरेशन होगा। इसका आयोजन बंगाल की खाड़ी के साथ पूर्वी तट पर किया जायेगा। इसका आयोजन इंटीग्रेटेड डिफेन्स स्टाफ के तहत किया जायेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement