भारत-अमेरिका व्यापारिक सम्बन्ध

अमेरिका-भारत सामरिक साझेदारी फोरम ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की

अमेरिका-भारत सामरिक साझेदारी फोरम ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान इज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस सुनिश्चित करने पर चर्चा की गयी।

इस बैठक में अमेरिकी उद्योगपतियों ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर अपना भरोसा दिखाया। यह मुलाकात एक ऐसे समय में हुई है जब विश्व बैंक तथा अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसी संस्थाओं ने भारत की विकास दर के धीमा होने का अनुमान लगाया है।

अमेरिका-भारत सामरिक साझेदारी फोरम (USISPF)

यह एक गैर-लाभकारी संगठन है, इसकी स्थापना 2017 में की गयी थी। इसका मुख्य उद्देश्य भारत-अमेरिका द्विपक्षीय सम्बन्ध तथा सामरिक साझेदारी को मज़बूत बनाना है। द्वितीय USISPF लीडरशिप समिट का आयोजन 11 जुलाई, 2019 को अमेरिका के वाशिंगटन में किया गया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफेरेंस : मुख्य बिंदु

जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफेरेंस (GSP) की स्थापना 1976 में व्यापार अधिनियम, 1974 के तहत की गयी थी। यह अमेरिका का एक व्यापारिक कार्यक्रम है। इसका उद्देश्य विकासशील देशों के आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है। इसके तहत 129 देशों के 4,800 उत्पादों को निशुल्क प्रवेश की सुविधा प्रदान की जाती है।

हाल ही में 25 प्रभावशाली कानून निर्माताओं के समूह ने अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि रोबर्ट लाइटजर से GSP को समाप्त न करने की गुज़ारिश की है। 3 मई, 2019 को नोटिस की 60 दिन की अवधि समाप्त हो गयी थी। भारत के लिए GSP समाप्त करने से भारत को निर्यात करने वाली अमेरिकी कंपनियों को भी नुकसान होगा। कानून निर्माताओं ने इस प्रकार के सौदे पर वार्ता करने के लिए कहा है जिससे आयात और निर्यात दोनों के द्वारा नौकरियों में वृद्धि हो। राष्ट्रपति ट्रम्प ने 4 मार्च को कहा था कि अमेरिका भारत के लिए GSP कार्यक्रम को समाप्त करेगा।

भारत के साथ व्यापार पर असर

भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफेरेंस (GSP) की सुविधा समाप्त करने से लगभग 2,000 भारतीय उत्पादों को निशुल्क प्रवेश की सुविधा नहीं मिल पाएगी। इससे छोटे व मझौले उद्योगों को काफी नुकसान हो सकता है। इससे अमेरिका में भारतीय निर्यातों पर भी विपरीत प्रभाव पड़ेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement