भारत-चीन सीमा

भारतीय सेना ने राष्ट्रीय हाइड्रोएलेक्टिक पॉवर कारपोरेशन (NHPC) के साथ MoU पर हस्ताक्षर किये

भारतीय सेना ने राष्ट्रीय हाइड्रोएलेक्टिक पॉवर कारपोरेशन (NHPC) के साथ MoU पर हस्ताक्षर किये, इस समझौते के तहत NHPC चीन और पाकिस्तान के साथ लगने वाली सीमा के निकट गोला-बारूद के भण्डारण के लिए भूमिगत सुरंगों का निर्माण करेगा। यह एक पायलट प्रोजेक्ट है, यह सुरंगे दो वर्ष के भीतर तैयार कर ली जायेंगी। इस प्रोजेक्ट की लागत लगभग 15 करोड़ रुपये है।

मुख्य बिंदु

इस पायलट प्रोजेक्ट के अंतर्गत तीन सुरंगों का निर्माण चीन के साथ लगने वाली सीमा पर किया जायेगा जबकि एक सुरंग का निर्माण पाकिस्तान के साथ लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल के साथ किया जाएगा। यह प्रोजेक्ट भारतीय सेना के लिए बहुत ज़रूरी है। सीमा के साथ लगने वाले क्षेत्र में अधोसंरचना के मामले में चीन भारत से काफी आगे है। वर्तमान में भारतीय सेना अपने गोला-बारूद को भूमि के ऊपर बने स्थान पर रखती है, इस प्रकार के गोला-बारूद को दुश्मन देश के सैटेलाइट ढूंढ सकते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

भारतीय वायुसेना ने पाक्योंग हवाईअड्डे में AN-32 एयरक्राफ्ट को लैंड किया

भारतीय वायुसेना ने पहली बार अन्तोनोव-32 एयरक्राफ्ट को सिक्किम के पाक्योंग हवाईअड्डे पर उतारा। पाक्योंग हवाईअड्डा भारत के सबसे ऊँचे हवाईअड्डों में से एक है।

इस हवाईअड्डे पर सफल लैंडिंग सामरिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। यह हवाईअड्डा भारत-चीन सीमा से मात्र 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह हवाईअड्डा समुद्र तल से 4500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। पिछले कुछ समय में उत्तर-पूर्वी भारत में अधोसंरचना में काफी बड़े स्तर पर कार्य किया जा रहा है।

पाक्योंग हवाईअड्डा

पाक्योंग हवाईअड्डा सिक्किम का पहला हवाईअड्डा है, यह सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 30 किलोमीटर दूर स्थित है। इसके रनवे की लम्बाई 1700 मीटर है। पाक्योंग हवाईअड्डा देश का 100वां ऑपरेशनल हवाईअड्डा है। इस हवाईअड्डे के उद्घाटन के अवसर पर नागरिक विमानन सुरेश प्रभु ने अपने वक्तव्य में कहा की आजादी की 67 साल बाद देश में केवल 65 हवाईअड्डे थे, जबकि पिछले चार वर्षों में ही 35 नए हवाई अड्डे बनाये गये हैं। उन्होंने अगले 10-15 वर्षों में 100 नए हवाईअड्डे निर्मित करने के योजना पर भी प्रकाश डाला।

पाक्योंग हवाईअड्डे से सिक्किम के लोगों तथा पर्यटकों को काफी सहूलियत होगी। इससे पहले कलकत्ता से सिक्किम सड़क मार्ग अथवा रेलमार्ग पर 10 घंटे की यात्रा करनी पड़ती थी, हवाईअड्डा शुरू होने के बाद अब यह यात्रा मात्र 75 मिनट में की जा सकती है। 16 अक्टूबर से पाक्योंग और गुवाहाटी के बीच उड़ान की शुरुआत होगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement