भारत-जापान सम्बन्ध

भारत-जापान ने 15,295 करोड़ रुपये की रेल परियोजना पर हस्ताक्षर किए

जापानी सरकार की वित्त पोषण एजेंसी JICA ने तीन मेगा रेल अधोसंरचना परियोजनाओं के लिए भारत के साथ 15,295 करोड़ रुपये के ऋण समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं।

इन समझौतों के द्वारा 8,553 करोड़ रुपये का ऋण समर्पित फ्रेट कॉरिडोर के चरण -1 के लिए, मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक परियोजना (II) के लिए 4,262 करोड़ रुपये और मुंबई नगर निगम लाइन 3 परियोजना के लिए 2,480 करोड़ रुपये प्रस्तावित है।

महत्व

समर्पित फ्रेट कॉरिडोर का उद्देश्य देश में बढ़ती माल परिवहन मांग को पूरा करना है। यह दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारा विकास योजना के लिए एक रीढ़ की हड्डी के रूप में कार्य करेगा।

तीनों परियोजनाएं मुंबई पर केंद्रित हैं क्योंकि मुंबई की आबादी में काफी वृद्धि हुई है। इसके अलावा, इस क्षेत्र में कई उद्योग स्थापित किये गये हैं। इससे शहर में प्रदूषण के स्तर को कम करने में भी मदद मिलेगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

भारत और जापान के बीच समुद्री वार्ता के पांचवें दौर का आयोजन किया गया

26 दिसम्बर, 2019 को भारत और जापान के बीच समुद्री मामलों की वार्ता के पांचवें दौर का आयोजन टोक्यो में किया गया। इस वार्ता के दौरान दोनों देशों ने समुद्री सहयोग को और मज़बूत करने पर सहमती प्रकट की।

भारत-जापान रक्षा सम्बन्ध

  • भारत-जापान समुद्री वार्ता के पहले दौर का आयोजन नई दिल्ली में 2013 में किया गया था।
  • भारत और जापान JIMEX (Japan-India Maritime Exercise) नामक वार्षिक अभ्यास में हिस्सा लेते हैं।
  • भारत और जापान के बीच 2+2 रक्षा वार्ता का आयोजन किया जाता है।

महत्व

भारत और जापान के लिए समुद्री सुरक्षा का महत्व अत्याधिक है, आर्थिक दृष्टि से दोनों देश समुद्री व्यापार पर निर्भर है। इसलिए समुद्री व्यापार की सुरक्षा के लिए मिलकर कार्य करना आवश्यक है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement