भारत बांग्लादेश सम्बन्ध

बांग्लादेश ने भारत को हिल्सा मछली निर्यात पर लगे प्रतिबन्ध को हटाया

बांग्लादेश सरकार दुर्गा पूजा से पहले भारत को 500 टन हिल्सा मछली के निर्यात को मंज़ूरी देगी। बांग्लादेश में विश्व का 75% हिल्सा मछली उत्पादन किया जाता है। अधिक मात्रा में हिल्सा मछली के उत्पादन के बाद बांग्लादेश सरकार ने भारत को हिल्सा मछली के निर्यात पर प्रतिबन्ध लगा दिया था।

हिल्सा मछली

हिल्सा मछली बांग्लादेश में पायी जाती है, यह बांग्लादेश की राष्ट्रीय मछली है।

बांग्लादेश ने हिल्सा मछली के निर्यात पर प्रतिबन्ध क्यों लगाया?

  • बांग्लादेश की नदियों में हिल्सा मछली की जनसँख्या तीव्रता से कम  हो रही थी, इसके कई कारण हैं :
  • अत्याधिक शिकार, बांधों का निर्माण, जल स्त्रोतों में घरेलु व औद्योगिक कचरे की उपस्थिति
  • रासायनिक प्रदूषण के कारण मछलियों के लिए आवश्यक प्लैंकटन की मात्र में भी कमी आई।
  • हिल्सा मछली के उप्तादन में 4 मिलियन से अधिक मछुआरे शामिल हैं, जिस कारण इस मछली का अत्याधिक दोहन हुआ है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

सम्प्रीती अभ्यास 2019

भारत और बांग्लादेश के बीच 2 मार्च, 2019 के बीच “सम्प्रीती” युद्ध अभ्यास की शुरुआत हुई। यह युद्ध अभ्यास भारत और बांग्लादेश के बीच रक्षा सहयोग का हिस्सा है। द्विपक्षीय रक्षा सहयोग की दृष्टि से यह अभ्यास काफी महत्वपूर्ण है। इसका आयोजन बांग्लादेश के तंगेल में किया जायेगा। गौरतलब है कि यह दोनों देशों के बीच सैन्य अभ्यास का आठवां संस्करण है।

सम्प्रीती अभ्यास 2019

इस अभ्यास  में बांग्लादेश का प्रतिनिधित्व 36 ईस्ट बंगाल बटालियन द्वारा किया जा रहा है जबकि भारत का प्रतिनिधित्व राजपुताना राइफल्स की 9वीं बटालियन द्वारा किया जा रहा है।

इस अभ्यास में दोनों देशों के सेनाएं आतंकवाद रोधी गतिविधियों में अपने कौशल का प्रदर्शन करेंगी। इसके अलावा आपदा प्रबंधन को मध्य नज़र रखते हुए भी अभ्यास किया जायेगा।

इस सैन्य अभ्यास के उद्देश्य निम्नलिखित हैं :

  • दोनों देशों की सेनाओं के बीच इंटर-ओपेराबिलिटी को बढ़ावा देना।
  • सैन्य सहयोग को मज़बूत बनाना।
  • आतंकवाद का सामना करने के लिए अभ्यास।
  • आपसी समझ को मज़बूत करना।
  • दोनों देशों की सेनाओं के बीच रणनीतिक सहयोग।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement