भारत में कृषि उत्पादन

COVID-19 संकट के बीच गेहूं खरीद सीजन शुरू हुआ

प्रतिवर्ष गेहूं की खरीद अप्रैल के पहले सप्ताह से शुरू होती है और सरसों की खरीद मार्च के अंतिम सप्ताह से शुरू होती है। हालांकि, इस साल लॉक डाउन और COVID-19 संकट के कारण खरीद प्रक्रिया में 15 दिनों की देरी हुई है।

मुख्य बिंदु

भारतीय खाद्य निगम ने विशेष गाड़ियों के माध्यम से पंजाब से 50,000 मीट्रिक टन चावल और गेहूं का परिवहन किया। यह गेहूं की खरीद के लिए जगह आवंटित करने के लिए किया गया है। अकेले पंजाब में भंडारण क्षमता 235 लाख मीट्रिक टन है। इसमें से 100 लाख मीट्रिक टन भंडारण चावल और 75 लाख मीट्रिक टन गेहूं के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

2020-21 में गेहूं उत्पादन

गेहूं का उत्पादन 106.21 मिलियन टन से अधिक होने का अनुमान है। देश के तीन राज्यों मध्य प्रदेश, पंजाब और हरियाणा में गेहूं का 90% उत्पादन होता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

2018-19 के लिए प्रमुख फसलों के उत्पादन के अग्रिम अनुमान

हाल ही में कृषि मंत्रालय ने 2018-19 के लिए प्रमुख फसलों के उत्पादन के दूसरे अग्रिम अनुमान जारी किये।

मुख्य बिंदु

खाद्यान्न – 281.37 मिलियन टन

चावल – 115.60 मिलियन टन (रिकॉर्ड)

न्यूट्री/मोटे अनाज – 42.64 मिलियन टन

मक्का – 27.80 मिलियन टन

दालें – 24.02 मिलियन टन

तूर – 3.68 मिलियन टन

चना – 10.32 मिलियन टन

आयल सीड – 31.50 मिलियन टन

सोयाबीन – 13.69 मिलियन टन

तोरिया व सरसों – 8.40 मिलियन टन

मूंगफली – 6.97 मिलियन टन

कपास – 30.09 गाठें (170 किलोग्राम की एक गाँठ)

जूट व मेस्ता – 10.07 मिलियन गांठें (180 किलोग्राम की एक गाँठ)

गन्ना – 380.83 मिलियन टन

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि मानसून (जून से सितम्बर, 2018 के दौरान) दीर्घकालीन औसत से 9% कम रहा है। उत्तर-पश्चिमी भारत, मध्य भारत तथा दक्षिणी प्रायद्वीप पर वर्षा लगभग सामान्य रही। प्रमुख फसलों के बड़े उत्पादक राज्यों में वर्षा सामान्य रही। इसलिए 2018-19 में अधिकतर फसलों के उत्पादन का अनुमान औसत से अधिक रखा गया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement