मलेरिया

स्वास्थ्य मंत्रालय ने लांच किया “जन जागरूकता अभियान”

केन्द्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने हाल ही में नई दिल्ली में तीन दिवसीय विशेष अभियान “जन जागरूकता अभियान” लांच किया है। इस अभियान के द्वारा डेंगू, चिकुनगुनिया तथा मलेरिया जैसे रोगों (vector borne diseases or VBD) की रोकथाम व नियंत्रण के बारे में लोगों को जागरूक किया जायेगा। यह अभियान 17 से 19 जुलाई, 2019 के दौरान नई दिल्ली में चलाया जायेगा।

जन जागरूकता अभियान

इस अभियान का उद्देश्य मच्छरों से होने वाले रोगों की रोकथाम के लिए जनता को भागीदार बनाना है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा एकत्रित डाटा के अनुसार 30 जून, 2019 तक डेंगू के 8,058 मामले सकारात्मक पाए गये थे, जबकि देश भर में 14,404 चिकुनगुनिया के मामले सामने आये हैं। 31 मई, 2019 तक देश में मलेरिया के कुल 66,313 मामले सामने आये हैं।

“जन जागरूकता अभियान” एक जन आन्दोलन है, इसमें जनता के प्रतिनिधि, केंद्र सरकार के अधिकारी, NCT दिल्ली सर्कार, दिल्ली के तीनों म्युनिसिपल कारपोरेशन, NDMC, रेलवे, कैंटोनमेंट बोर्ड इत्यादि डेंगू, मलेरिया व चिकुनगुनिया का सामना मिलकर करेंगे।

इस अभियान के लिए NDMC (नई दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन) की 286 टीमें गठित की गयी हैं, प्रत्येक टीम में 20-25 सदस्य हैं। प्रत्येक टीम में म्युनिसिपल कारपोरेशन, केंद्र सरकार तथा दिल्ली सरकार के अधिकारी शामिल होंगे।

इस अभियान के तहत टीमें स्कूल के प्रधानाचार्य तथा अध्यापकों से मुलाकात करेंगी और उन्हें स्कूलों को मच्छरों से मुक्त रखने की आवश्यकता के बारे में अवगत करवाएंगी। इस दौरान स्कूली बच्चों को डेंगू, चिकुनगुनिया तथा मलेरिया जैसे रोग (vector borne diseases or VBD) के रोकथाम व नियंत्रण के बारे में भी बताया जायेगा।

यह टीमें अस्पतालों का दौरा भी करेंगी, इस दौरान मेडिकल सुपरिन्टेन्डेन्ट, नोडल अधिकारी इत्यादि से vector borne diseases or VBD के रोकथाम के बारे में विचार-विमर्श किया जायेगा। यह टीमें अस्पतालों का निरीक्षण भी करेंगी।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

विश्व मलेरिया दिवस : 25 अप्रैल

प्रतिवर्ष 25 अप्रैल को विश्व भर में विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य मलेरिया के बारे में जागरूकता फैलाना तथा इसे रोकने के लिए प्रयास करना है।

पृष्ठभूमि

विश्व मलेरिया दिवस की स्थापना विश्व स्वास्थ्य संगठन की निर्णय निर्माता संस्था विश्व स्वास्थ्य असेंबली के 60वें अधिवेशन में मई, 2007 में की गयी थी। इसका उद्देश्य मलेरिया रोग के बारे में जागरूकता फैलाना था। यह विश्व स्वास्थ्य संगठन के 8 आधिकारिक वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियानों में से एक है।

मलेरिया

मलेरिया मच्चार के कारण होने वाला रोग है, एक एक संक्रामक रोग है। मलेरिया एनोफीलीज़ मादा मच्छर के काटने से होता है। यह पैरासाईंटिक प्रोटोजोआ के कारण होता है। जब संक्रमित मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो परजीवी इस व्यक्ति के यकृत (लीवर) में तेज़ी से बढ़ना शुरू हो जाते हैं। यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) को संक्रमित करके नष्ट कर देता है। शुरूआती निदान से मलेरिया को नियंत्रित किया जा सकता है।

मलेरिया के लक्षण  

सर्दी-ज़ुकाम

बुखार

सांस लेने में तकलीफ

असामान्य रक्त बहाव

रक्ताल्पता (एनीमिया) के लक्षण

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement