मानस राष्ट्रीय उद्यान

भारत, भूटान और नेपाल ने ट्रांस बॉर्डर कंज़र्वेशन पार्क की स्थापना के लिए MoU पर हस्ताक्षर किये

भारत, भूटान और नेपाल ने ट्रांस बॉर्डर कंज़र्वेशन पार्क की स्थापना के लिए MoU पर हस्ताक्षर किये। इस उद्यान में जैव-विविधता से परिपूर्ण भू-दृश्य शामिल होंगे।

महत्व

अन्य पार्क प्रजाति पर आधारित होते हैं, यह पार्क भू-दृश्य पर आधारित होगा। इस प्रकार के अन्य पार्क ‘मानस पार्क’ क्षेत्र में पहले से मौजूद है। परन्तु इस पार्क में बहुत कम क्षेत्र संरक्षित है। जबकि नए पार्क में सम्पूर्ण पार्क में संरक्षण प्रोटोकॉल लागू होगी।  यह नया पार्क मानस पार्क का विस्तार होगा। इस पहल की शुरुआत भारत द्वारा क्षेत्र में प्रवासी प्रजातियों (जैसे हाथी) को मध्यनजर रखते हुए की गयी है।

मानस राष्ट्रीय उद्यान

मानस राष्ट्रीय उद्यान यूनेस्को प्राकृतिक विश्व धरोहर स्थान है, यह एक टाइगर रिज़र्व तथा बायोस्फियर रिज़र्व है। यह उद्यान भूटान के रॉयल मानस नेशनल पार्क के समीप स्थित है। इस उद्यान में असम रूफ्ड टर्टल, गोल्डन लंगूर तथा पिग्मी हॉग जैसी विलुप्तप्राय प्रजातियाँ मौजूद है। इस उद्यान जंगली जलीय भैंसों के लिए प्रसिद्ध है। यह पार्क ब्रह्मपुत्र नदी की सहायक नदी मानस नदी के निकट स्थित है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

भारत में गैंडे के डीएनए डेटाबेस तैयार किया जायेगा

केन्द्रीय पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने हाल ही में देश में मौजूद गैंडों के डीएनए का डेटाबेस तैयार करने का निर्णय लिया है। यह प्रोजेक्ट संभवतः 2019 के अंत तक शुरू हो जायेगा। यह प्रोजेक्ट 2021 तक पूरा हो जायेया।

मुख्य बिंदु

इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद भारतीय गैंडा देश में डीएनए प्रोफाइल वाला पहला जंतु बना जायेगा। एकत्रित किये गये डाटा को देहरादून में भारतीय वन्यजीव संस्थान के मुख्यालय में रखा जाएगा। यह प्रोजेक्ट “गैंडा संरक्षण कार्यक्रम” का हिस्सा है। अब तक काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के बाहर निवास करने वाले गैंडो के 60 सैंपल एकत्रित किये जा चुके हैं। भारत में लगभग 2600 गैंडे हैं, इनकी 90% जनसँख्या केवल असम के काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में भी मौजूद है।

1980 के दशक से भारत सरकार गैंडों की इस जनसँख्या को अन्य स्थानों पर विस्थापित करने का प्रयास कर रही है, यह इस प्रजाति के संरक्षण के लिए आवश्यक है। इस जनसँख्या को असम के मानस राष्ट्रीय उद्यान तथा पोबितारा वन्यजीव अभ्यारण्य में विस्थापित किया जा रहा है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement