मेडिकल कॉलेज

CCEA ने 2021-22 तक देश में 75 अतिरिक्त सरकारी मेडिकल कॉलेजों स्थापना को मंज़ूरी दी

आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति (CCEA) ने देश में 2021-22 तक 75 अतिरिक्त सरकारी मेडिकल कॉलेजों की स्थापना को मंज़ूरी दे दी है। इन कॉलेजों को पहले से मौजूद जिला/रेफरल अस्पताल के साथ जोड़ा जायेगा। इन कॉलेजों की स्थापना उन क्षेत्रों में की जाएगी जहाँ पर कम से कम 200 बिस्तर वाले कोई भी जिला अस्पताल नहीं है। इसके लिए एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्स को प्रमुखता दी जायेगी।

नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के लाभ

इससे क्वालिफाइड हेल्थ प्रोफेशनल्स की उपलब्धता में वृद्धि होगी, इसके द्वारा स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार होगा। इससे देश में 15,700 MBBS की सीटें भी सृजित होंगी।

केंद्र सरकार देश में स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए अधोसंरचना के निर्माण पर काफी कार्य कर रही है, इसी सन्दर्भ में केंद्र सरकार ने बड़े पैमाने पर मेडिकल कॉलेजों की स्थापना पर बल दिया है। गौरतलब है कि इन प्रस्तावित कॉलेजों में 39 मेडिकल कॉलेज क्रियाशील हो चुके हैं। जबकि 19 कॉलेज 2020-21 तक क्रियाशील हो जायेंगे। दूसरे चरण में 18 नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के लिए मंज़ूरी दी गयी है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने लक्ष्य कार्यक्रम की घोषणा की।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने ‘लक्ष्य’ कार्यक्रम की घोषणा की है । इस कार्यक्रम से ऑपरेशन थियेटर,प्रसूति संबंधी गहन देखभाल इकाइयों (आईसीयू),प्रसूति कक्ष,उच्च निर्भरता इकाइयों (एचडीयू) में गर्भवती महिलाओं की देखभाल में सुधार होगा। इसे सभी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों, जिला अस्पतालों और फर्स्ट रेफरल यूनिट (एफआरयू) तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी) में कार्यान्वित किया जा रहा है। इससे प्रत्येक गर्भवती महिला और सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थानों में जन्म लेने वाले नवजात शिशु लाभांवित होंगे। इसके तहत बहु-आयामी रणनीति अपनाई गई है जैसे बुनियादी ढांचे के उन्नयन में सुधार, आवश्यक उपकरण की उपलब्धता सुनिश्चित करना , पर्याप्त मानव संसाधन उपलब्ध कराना , स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ताओं की क्षमता निर्माण और श्रमिक कक्ष में गुणवत्ता प्रक्रिया में सुधार आदि

महत्व

-इससे हर गर्भवती महिला को लाभ होगा ।
-इससे नवजात शिशु मृत्यु दर कम हो जाएगी। यह डिलीवरी के दौरान देखभाल की गुणवत्ता में सुधार लाएगा |
-यह सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में भाग लेने वाली सभी गर्भवती महिलाओं को सम्मानजनक मातृत्व देखभाल (आरएमसी) का लाभ प्रदान करेगा ।

लक्ष्य प्रमाणन

एनक्यूएएस (राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन मानक) श्रम कमरे (labor room) और मातृत्व ओटी में गुणवत्ता में सुधार की निगरानी करेगा । एनक्यूएस पर 70% अंक प्राप्त करने वाली हर सुविधा को लक्ष्य प्रमाणित सुविधा के रूप में प्रमाणित किया जाएगा। 90%, 80% और 70% से अधिक की सुविधा वाले प्लैटिनम, गोल्ड और सिल्वर बैज को तदनुसार दिए जाएंगे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement