राजनाथ सिंह

ICGS सचेत को भारतीय तटरक्षक बल में कमीशन किया गया

15 मई, 2020 को भारतीय तटरक्षक बल ने गोवा में पहला तटरक्षक अपतटीय गश्ती पोत आईसीजीएस सचेत कमीशन किया। इस समारोह की अध्यक्षता रक्षा मंत्री राज नाथ सिंह ने की।

मुख्य बिंदु

ICGS सचेत सीजीओपीवी (तटरक्षक अपतटीय गश्ती वाहन) परियोजना के तहत पांच जहाजों में से एक है। यह परियोजना पहले छह जहाज वाली सीजीओपीवी परियोजना का अनुवर्ती परियोजना थी जो 2017 में पूरी हुई थी।

ICGS सचेत

ICGS सचेत सहित सभी पांच जहाज 105 मीटर लंबे हैं और 2,350 टन भार ले जाने में सक्षम हैं। इन जहाजों को तकनीकी रूप से उन्नत मशीनरी और नियंत्रण प्रणाली से सुसज्जित किया गया है। वे उन्हें भारतीय तट रक्षक प्रणाली में सबसे अग्रिम गश्ती पोत बनाते हैं।

इन जहाजों को पांच उच्च गति नौकाओं और दो इंजन वाले हल्के हेलीकाप्टरों को ले जाने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

सीजीओपीवी (तटरक्षक अपतटीय गश्ती वाहन) परियोजना

2017 में पूरा होने वाली सीजीओपीवी के तहत, समरथ श्रेणी के छह जहाजों को भारतीय तटरक्षक बल में कमीशन किया गया था।

समर्थ श्रेणी ओपीवी

यह 2008 के मुंबई हमलों के बाद शुरू किया गया था। क्योंकि, खुफिया इकाई ने पाया कि हमले में शामिल आतंकवादी समुद्र के रास्ते भारत पहुंचे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

रक्षा मंत्री ने DefExpo 2020 मोबाइल एप्प लांच की

11वें DefExpo India – 2020 का आयोजन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में किया जायेगा। इस द्विवार्षिक इवेंट का आयोजन लखनऊ में पहली बार 5 फरवरी, 2020 से किया जायेगा। इस प्रदर्शनी में भारतीय रक्षा उद्योग की क्षमता तथा निर्यात क्षमता का प्रदर्शन किया जायेगा। पिछली बार DefExpo का आयोजन 2018 में चेन्नई में किया गया था। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने डेफएक्सपो की मोबाइल एप्प को लांच किया।

DefExpo India – 2020

इस चार दिवसीय इवेंट में भारतीय रक्षा उद्योग को अपनी क्षमता प्रदर्शित करने का मौका मिलेगा, इससे निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा। DefExpo India – 2020 की थीम “भारत – रक्षा विनिर्माण का उभरता हुआ हब” होगी। इस प्रदर्शनी का फोकस रक्षा क्षेत्र का डिजिटल परिवर्तन होगा। इस प्रदर्शनी में उत्तर प्रदेश को रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए उपयुक्त स्थान के रूप में प्रस्तुत किया जायेगा। इस DefExpo के द्वारा विदेशी उपकरण निर्माताओं को भारतीय रक्षा उद्योग के साथ मिलकर कार्य करने का मौका मिलेगा, इससे मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement