राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण

“राहत” अभ्यास

जयपुर, कोटा तथा अलवर में 11-12 फरवरी के दौरान आपदा राहत अभ्यास “राहत” का प्रदर्शन किया जायेगा।

मुख्य बिंदु

  • भारतीय थलसेना के स्थान पर जयपुर बेस्ड सप्त शक्ति कमान संयुक्त मानवीय सहायता व आपदा राहत अभ्यास “राहत” का आयोजन करेगी।
  • इस अभ्यास का आयोजन राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के साथ मिलकर किया जायेगा।
  • इस अभ्यास में सशस्त्र सेना, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अनुक्रिया मैकेनिज्म (NDMRM), राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण तथा जिला स्तरीय संगठन हिस्सा लेंगे।
  • इस अभ्यास का आयोजन जयपुर, कोटा तथा अलवर में एक साथ आयोजित किया जाएगा।
  • इस अभ्यास में विभिन्न संगठनों के बीच आपसी तालमेल का प्रदर्शन किया जायेगा।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA)

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) एक वैधानिक संस्था है, यह केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करती है। इसकी स्थापना वर्ष 2009 में की गयी थी, इसके प्रावधान आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 से लिए गये हैं। इसका कार्य प्राकृतिक अथवा मानव निर्मित आपदा में समन्वय के साथ शीघ्र अनुक्रिया करना है। यह संगठन राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों (SDMA) के साथ समन्वय, नीति निर्माण तथा दिशानिर्देश जारी करने का कार्य भी करता है। NDMA के बोर्ड में 9 सदस्य होते हैं, इसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री द्वारा की जाती है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

NDRF को पहले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार के लिए चुना गया

हाल ही में NDRF की आठवीं बटालियन को पहले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार के लिए चुना गया है। इसकी घोषणा नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती (23 जनवरी) के अवसर पर की गयी।

सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार के द्वारा उन व्यक्तियों तथा संस्थानों को सम्मानित किया जायेगा जिन्होंने ने आपदा प्रबंधन में देश में बेहतरीन कार्य किया है। इस पुरस्कार का उद्देश्य उन लोगों व संगठनों के प्रयासों को सम्मानित करना है, जिन्होंने आपदा के दौरान लोगों की सहायता की है।

सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) द्वारा जारी स्टेटमेंट के अनुसार तीन योग्य संस्थान तथा व्यक्ति “सुभाष चन्द्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार से प्रतिवर्ष सम्मानित किये जायेंगे, उन्हें 5 लाख रुपये से 51 लाख रुपये की राशि इनामस्वरुप प्रदान की जायेगी। इस पुरस्कार के लिए केवल भारतीय नागरिक तथा भारतीय संगठन ही योग्य हैं।

यदि पुरस्कार जीतने वाले कोई व्यक्ति है तो उसे एक प्रमाण पत्र तथा 5 लाख रुपये प्रदान किये जायेंगे। यदि पुरस्कार विजेता कोई संस्थान है तो उसे एक प्रमाण पत्र तथा 51 लाख रुपये प्रदान किये जायेंगे। इस इनाम राशि का उपयोग केवल आपदा प्रबंधन से सम्बंधित कार्य के लिए ही किया जा सकता है।

राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (NDRF)

NDRF आपदा के समय त्वरित क्रिया करने वाला बल है, इसकी स्थापना वर्ष 2006 में आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के अंतर्गत की गयी थी। NDRF का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। यह केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है। NDRF के लिए नीति, योजना तथा दिशेनिर्देश का निर्माण राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) द्वारा किया जाता है।

NDRF प्राकृतिक आपदा, मानव निर्मित आपदा, दुर्घटना अथवा आपातकाल के दौरान राहत व बचाव कार्य करता है। इस दौरान जान-माल की रक्षा के लिए NDRF स्थानीय एजेंसियों के साथ मिलकर कार्य करता है। वर्तमान में NDRF के 12 बटालियन देश के अलग-अलग हिस्सों में नियुक्त की गयी हैं।

 

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement