रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड

रिलायंस बनी एक तिमाही में 10,000 करोड़ रुपये का लाभ कमाने वाली पहली निजी कंपनी

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड 10,000 करोड़ रुपये लाभ कमाने वाली भारत की पहली निजी कंपनी बन गयी है। तीसरी तिमाही में रिलायंस के शुद्ध लाभ में 8.8% की वृद्धि हुई और यह बढ़कर 10,251 करोड़ रुपये तक पहुँच गया। इस लाभ का प्रमुख कारण रिलायंस का पेट्रोकेमिकल, रिटेल और डिजिटल सेवाओं में बेहतरीन प्रदर्शन है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL)

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है, इसकी स्थापना 1977 में धीरुभाई अम्बानी ने की थी। वर्तमान में मुकेश अम्बानी रिलायंस के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर हैं, उनके पास रिलायंस के 47% शेयर हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड उर्जा, पेट्रोकेमिकल, कपड़ा, प्राकृतिक संसाधन, रिटेल तथा दूरसंचार क्षेत्र में कार्य करती है। राजस्व के हिसाब से यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है, पहले स्थान पर सरकारी कंपनी इंडियन आयल कारपोरेशन है। 2017 में फार्च्यून ग्लोबल 500 सूची में यह 203 स्थान पर थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

रिलायंस इंडस्ट्रीज बनी 8 लाख करोड़ रुपये के मार्केट कैप वाली पहली भारतीय कंपनी

मुकेश अम्बानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज 8 लाख करोड़ रुपये (114 अरब डॉलर) के मार्केट कैप वाली पहली भारतीय कंपनी बनी। कंपनी के मार्केट कैप में वृद्धि होने के कारण मुकेश अम्बानी की आय में वृद्धि हुई, उनकी कुल संपत्ति 48 अरब के पार पहुँच गयी है। मार्केट कैप कंपनी का वह मूल्य है जिसका व्यापार स्टॉक मार्केट में किया जाता है। मार्केट कैप की गणना कुल शेयर की संख्या को शेयर की वर्तमान कीमत से गुणा करके की जाती है।

मुख्य बिंदु

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर की कीमत में 1.86% की वृद्धि होने के इसका मार्केट कैप 8 लाख करोड़ के पार पहुंचा। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज रिलायंस के शेयर की कीमत 1 ,269.70 रुपये है। रिलायंस के शेयर में वृद्धि होने के कारण इसका मार्केट कैप 8.05 लाख करोड़ रुपये तक पहुँच गया था। इस वर्ष रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में अब तक 38 प्रतिशत की वृद्धि हो चुकी है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के अपने मार्केट कैप में 1 लाख करोड़ रुपये मात्र 23 ट्रेडिंग सेशन में जोड़े। जुलाई, 2018 में रिलायंस ने 7 लाख करोड़ रुपये की सीमा को छुआ था। इसके मार्केट कैप को 6 लाख करोड़ से 7 लाख करोड़ रुपये तक पहुँचने में मात्र 81 ट्रेडिंग दिवस लगे। वर्तमान में रिलायंस की मार्केट कीमत भारत के कुल मार्केट कैप का 5% हिस्सा है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज का मार्किट कैप आईटी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) से भी ज्यादा है, TCS का मार्केट कैप 7,77,870 करोड़ रुपये है। TCS भारत की पहली आईटी कंपनी है जिसने 7 लाख करोड़ रुपये (100 बिलियन डॉलर) के मार्किट कैप की सीमा को मई, 2018 में छुआ था।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL)

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है, इसकी स्थापना 1977 में धीरुभाई अम्बानी ने की थी। वर्तमान में मुकेश अम्बानी रिलायंस के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर हैं, उनके पास रिलायंस के 47% शेयर हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड उर्जा, पेट्रोकेमिकल, कपड़ा, प्राकृतिक संसाधन, रिटेल तथा दूरसंचार क्षेत्र में कार्य करती है। राजस्व के हिसाब से यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी है, पहले स्थान पर सरकारी कंपनी इंडियन आयल कारपोरेशन है। 2017 में फार्च्यून ग्लोबल 500 सूची में यह 203 स्थान पर थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement