रेलवे बोर्ड

मिशन रफ्तार : रेलगाड़ियों की गति बढ़ाने के लिए एक दिवसीय कार्यशाला

रेल मंत्रालय ने एक दिवसीय कार्यशाला ‘मिशन रफ्तार’ का आयोजन किया जिसका उद्देश्य नई दिल्ली में फ्रेट ट्रेनों तथा यात्री ट्रेनों की औसत गति में वृद्धि करना है. कार्यशाला का उद्घाटन रेल राज्य मंत्री श्री राजेन गोहेन और रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष श्री अश्विनी लोहानी ने किया था. इस एक दिवसीय कार्यशाला के अवसर पर रेलवे बोर्ड के सभी सदस्य, रेल मंडलों के महाप्रबंधक सहित वरिष्ठ रेल अधिकारी भी उपस्थित थे.

मिशन रफ्तार का लक्ष्य और इसके महत्व

इस मिशन का लक्ष्य फ्रेट ट्रेनों की औसत गति को दोगुना करना और यात्री ट्रेनों की औसत गति पांच वर्ष की अवधि में 25 किमी प्रति घंटे तक बढ़ाना है. सड़क और हवाई मार्ग से मिलने वाली प्रतिस्पर्धा के साथ तालमेल रखने के लिए भारतीय रेलवे की रणनीति के हिस्से के रूप में इस मिशन को लॉन्च किया गया है. रेलों की औसत गति को बढ़ाने से यात्रा अवधि को कम करने, माल ढोने में लगने वाले समय को कम करने, संचालन लागत को कम करने, राजस्व बढ़ाने तथा रेलवे की बाजार हिस्सेदारी को बढ़ाने में निश्चित रूप से मदद मिलेगी. स्वर्णिम चतुर्भुज (दिल्ली-मुंबई-चेन्नई-कोलकाता) पर रेलवे के प्रमुख मार्ग है. इन रेल-मार्गों से 58 प्रतिशत फ्रेट यातायात तथा 52 प्रतिशत यात्री यातायात का संचालन होता है.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement