रोसकॉसमॉस

रूस ने “फेडोर” नामक रोबोट को अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन (ISS) के लिए भेजा

रूस ने हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन के लिए कजाखस्तान के बैकोनुर से एक राकेट लांच किया है, इस राकेट में “फेडोर” नामक रोबोट को भेजा गया है। यह रूस द्वारा अन्तरिक्ष में भेजा गया पहला रोबोट है। “फेडोर” की ऊंचाई एक मीटर 80 सेंटीमीटर है (5 फीट 11 इंच) । इसका भार 160 किलोम्ग्राम है। इस रोबोट का उपयोग नई आपातकालीन बचाव प्रणाली का परीक्षण करना है। अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन में 10 दिन तक “फेडोर” नए कौशल सीखेगा, यह इलेक्ट्रिक केबल को स्क्रूड्राइवर की सहायता से कनेक्ट तथा डिसकनेक्ट करने जैसे कार्य भी करेगा।

अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन (ISS)

अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन (ISS) पृथ्वी की निम्न कक्षा में एक आवासीय कृत्रिम उपग्रह है। यह पृथ्वी से 330 से 435 किलोमीटर की ऊंचाई पर है। यह 92 मिनट में पृथ्वी की एक परिक्रमा पूरी करता है। यह एक दिन में 15.5 बार पृथ्वी की परिक्रमा करता है। ISS कार्यक्रम पांच अन्तरिक्ष एजेंसियों नासा (अमेरिका), रोसकॉसमॉस (रूस), जाक्सा (जापान), ESA (यूरोप) तथा CSA (कनाडा) का संयुक्त कार्यक्रम है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , , ,

स्पेस एक्स ने ISS के लिए NASA का कार्गो मिशन लांच किया

अमेरिकी निजी अन्तरिक्ष कंपनी स्पेस एक्स ने अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन के लिए ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट में कार्गो मिशन लांच किया।

मुख्य बिंदु

  • इस स्पेसएक्स का इस वर्ष का पांचवा मिशन है। ISS में विद्युत् समस्या के कारण इस मिशन में परिवर्तन किया गया था।
  • इस मिशन को फ्लोरिडा के केप कैनवेरल से फाल्कन-9 राकेट की सहायता से लांच किया गया।
  • ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट 6 मई को अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन में पहुंचेगा।
  • इसमें 2500 किलोग्राम का आपूर्ति सामान, अनुसन्धान तथा हार्डवेयर उपकरण इत्यादि हैं।
  • यह लगभग चार सप्ताह तक ISS में रहेगा। बाद में यह अपने साथ 1900 किलोग्राम का सामान वापस ले कर आएगा।

अंतर्राष्ट्रीय अन्तरिक्ष स्टेशन (ISS)

  • यह पृथ्वी की कक्षा में घूमती हुई एक किस्म की प्रयोगशाला है, इसमें क्रू मेंबर्स जीव विज्ञान, मानवीय जीव विज्ञान, भौतिक शास्त्र, खगोलशास्त्र इत्यादि से सम्बंधित प्रयोग करते हैं।
  • इस स्पेस स्टेशन में अन्तरिक्ष यात्री रहते हैं, यह पृथ्वी की निम्न कक्षा में परिक्रमा करता है।
  • इस प्रोजेक्ट के प्रमुख पार्टनर्स नासा (अमेरिका), रोसकॉसमॉस (रूस), यूरोपीय स्पेस एजेंसी (यूरोपीय संघ), कैनेडियन अन्तरिक्ष एजेंसी (कनाडा) तथा जाक्सा (जापान) हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement