लेह

लेह में प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में किया जाएगा 6वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन

6वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन लेह में किया जाएगा, इसका आयोजन प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में 21 जून को लद्दाख की राजधानी लेह में  किया जायेगा।

मुख्य बिंदु

2015 के बाद से प्रधानमंत्री मोदी प्रतिवर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योग के एक बड़े प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे हैं। इस वर्ष, योग प्रदर्शन अलग होगा क्योंकि यह उच्च ऊंचाई पर आयोजित किया जा रहा है। इस आयोजन में 15,000 से 20,000 से अधिक लोगों के भाग लेने की संभावना है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IYD)

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाने का विचार सितंबर 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्र्स्तवित किया गया था। बाद में दिसंबर 2014 में, संयुक्त राष्ट्र महासभा सर्वसम्मति से 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की गयी। यह प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र की ‘वैश्विक स्वास्थ्य और विदेश नीति’ की कार्यसूची के तहत अपनाया गया था। इस दिवस के लिए 21 जून की तारीख का चयन इसलिए किया गया क्योंकि यह दिन उत्तरी गोलार्ध (ग्रीष्मकालीन संक्रांति) का सबसे लंबा दिन होता है जिसका दुनिया के कई हिस्सों में विशेष महत्व है, साथ ही आध्यात्मिक कार्यों के लिए भी यह दिन विशेष माना जाता है। 21 जून 2015 को विश्व का पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

रोहतांग सुरंग का नाम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखा जाएगा

केन्द्रीय कैबिनेट ने रोहतांग सुरंग का नाम देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखने के लिए मंज़ूरी दे दी है। यह नया नाम 25 दिसम्बर (श्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म दिवस) से लागू होगा।

रोहतांग सुरंग

श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में 3 जून, 2000 को रोहतांग सुरंग के निर्माण का निर्णय लिया गया है, यह सुरंग रणनीतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण है। यह सुरंग हिमाचल प्रदेश में स्थित है। इस सुरंग की कुल लम्बाई 8.8 किलोमीटर है। यह सुरंग लगभग 3000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, यह इतनी ऊंचाई पर निर्मित सबसे लम्बी सुरंगों में से एक है। गौरतलब है कि इस सुरंग के कारण मनाली और लेह के बीच की दूरी में 46 किलोमीटर की कमी आएगी। यह सुरंग रणनीतिक दृष्टि से तो बेहद महत्वपूर्ण है परन्तु स्थानीय लोगों के लिए भी यह बेहद उपयोगी है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement