लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी L-56

GRSE ने भारतीय नौसेना को लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी शिप सौंपी

GRSE ने भारतीय नौसेना को लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी शिप सौंपी। इस उभयचर पोत के द्वारा युद्धक टैंक, सुरक्षित वाहन, सैनिकों तथा उपकरणों का परिवहन किया जा सकता है। इस पोत की लम्बाई 62.8 मीटर है, जबकि इसकी चौड़ाई 11 मीटर है। इस पोत की जल विस्थापन क्षमता 830 टन है। इसकी अधिकतम गति 15 नॉट है। इस पोत का उपयोग राहत व बचाव कार्य, आपूर्ति कार्य इत्यादि के लिए किया जा सकता है।

गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजिनियर्स (GRSE)

  • यह सार्वजनिक क्षेत्र का एक रक्षा उपक्रम है, भारत के अग्रणी सरकारी शिपबिल्डर्स में से एक है, यह पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में स्थित है। यह वाणिज्यिक तथा नौसैनिक वेसल का निर्माण व मरम्मत करता है। अब यह निर्यात जहाजों का निर्माण भी कर रहा है।
  • इसकी स्थापना 1884 में हुगली नदी के किनारे एक छोटी निजी कंपनी के रूप में हुई थी। 1916 में इसका नाम बदलकर गार्डन रीच वर्कशॉप रखा गया था। वर्ष 1960 में सरकार द्वारा इसका राष्ट्रीयकरण किया गया।
  • GRSE एक “मिनीरत्न” है। यह 100 युद्धपोत निर्मित करने वाला पहला भारतीय शिपयार्ड है। यह वर्तमान में P17A प्रोजेक्ट के तहत भारतीय नौसेना के लिए 3 स्टेल्थ फ्रिजेट्स का निर्माण कर रहा है।
  • GRSE द्वारा निर्मित 100 युद्धपोतों में एडवांस्ड फ्रिजेट्स, एंटी-सबमरीन वॉरफेयरक कार्वेट से लेकर फ्लीट टैंकर तक शामिल है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी L-56 को भारतीय नौसेना में कमीशन किया गया

हाल ही में विशाखापत्तनम के नेवल डॉकयार्ड में लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी L-56 को भारतीय नौसेना में कमीशन किया गया। लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजिनियर्स लिमिटेड (GRSE), कलकत्ता द्वारा निर्मित किया जाने 100वां पोत है। ऐसा कारनामा करने वाला यह देश का पहला शिपयार्ड है।

लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी L-56

यह एक उभयचर पोत है, इसका मुख्य कार्य सुरक्षित वाहनों, मुख्य युद्धक टैंक, सैनिकों तथा उपकरणों का परिवहन करना है। यह पोत पोर्ट ब्लेयर में बेस्ड होगा, यह अंदमान व निकोबार में कमांड में नेवल कॉम्पोनेन्ट कमांडर (NAVCC) के अधीन होगा।

इस पोत से अंदमान व निकोबार कमांड की समुद्री सहायता व आपदा राहत क्षमता में वृद्धि होगी। इस पोत को गश्त, खोज व बचाव कार्य, आपदा राहत ऑपरेशन, निगरानी इत्यादि के लिए किया जाएगा।

इस पोत की जल विस्थापन क्षमता 900 टन है। इसकी लम्बाई 62 मीटर है। इसमें दो MTU डीजल इंजन लगे है, इसके गति 15 नॉट से अधिक है। इसमें आधुनिकतम उपकरण लगे हुए हैं। इसमें 30 mm की दो CRN-91 गन लगी हुई हैं। इस पोत में चार अफसर तथा 56 सेलर हैं, यह पोत 150 सैनिकों को ले जाने में सक्षम है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , ,

Advertisement