विकास दर

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भारत की विकास दर के अनुमान को घटाकर 4.8% किया

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने मौजूदा वित्त वर्ष  के लिए विकास दर के अनुमान को घटाकर 4.8% किया, इससे पहले अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने 2019-20 में भारत की विकास दर 6.1% रहने का अनुमान लगाया था। 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर 5.8% रहेगी। 2021-22 में भारत की विकास दर 6.5% रहने के आसार हैं।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है जो वैश्विक स्तर पर आर्थिक सहयोग, आर्थिक सुदृढ़ता, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार तथा धारित विकास पर बल देती है। इसकी स्थापना 27 दिसम्बर, 1945 को की गयी थी। वर्तमान में 189 देश इसके सदस्य हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , ,

वित्त वर्ष 2020 में भारत की जीडीपी विकास दर 5% रहेगी : विश्व बैंक  

विश्व बैंक के अनुसार वित्त वर्ष 2020 में भारत की जीडीपी विकास दर 5% रहेगी। जबकि अगले वित्त वर्ष में जीडीपी विकास दर बढ़कर 5.8% होने के आसार हैं।

इससे पहले केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने हाल ही में 2019-20 के लिए सकल घरेलु उत्पाद के प्रथम अग्रिम अनुमान जारी किये। CSO के अनुमान के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी विकास दर 5% रहने का अनुमान है। यह अनुमान पिछले दो तिमाहियों पर आधारित है। 2018-19 में जीडीपी विकास दर 6.8% रही थी। इस वर्ष विनिर्माण सेक्टर में मंदी के कारण जीडीपी विकास दर में कमी आई है। 2019-20 के दौरान विनिर्माण सेक्टर की विकास दर 2% रही, जबकि पिछले वर्ष यह दर 6% थी।

विश्व बैंक

विश्व बैंक का मुख्यालय वाशिंगटन डी. सी. में है। इसकी स्थापना जुलाई 1945 को हुई थी। विश्व बैंक ऋण देने वाली एक ऐसी संस्था है जिसका उद्देश्य विभिन्न देशों की अर्थ व्यवस्थाओं को एक व्यापक विश्व अर्थव्यवस्था में शामिल करना और विकासशील देशों में ग़रीबी उन्मूलन के प्रयास करना है। इसके कुल 189 सदस्य देश हैं। इसका आदर्श वाक्य “निर्धनता मुक्त विश्व के लिए कार्य करना” है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement