विजयवाड़ा

विशाखापट्नम और विजयवाड़ा के बीच दौड़ेगी दूसरी उदय एक्सप्रेस

भारतीय रेल की दूसरी उदय (उत्कृष्ट डबल डेकर एयर कंडिशन्ड यात्री) एक्सप्रेस विशाखापट्नम और विजयवाड़ा के बीच दौड़ेगी। पहली उदय एक्सप्रेस कोइम्बतूर तथा बेंगलुरु के बीच जून 2018 में शुरू की गयी थी। इसके अलावा बंगलुरु तथा चेन्नई सेंट्रल के बीच भी एक उदय एक्सप्रेस चलाने की योजना है।

उदय एक्सप्रेस

यह एक विशेष रूप से डिजाईन की गयी डबल डेकर एयर कंडिशन्ड ट्रेन है। इस ट्रेन में वाई-फाई की सुविधा तथा आरामदायक सीटें तथा डिस्प्ले स्क्रीन लगई हुई हैं।

दूसरी उदय एक्सप्रेस

इस ट्रेन में 9 डबल डेकर कोच तथा 2 पॉवर कार्स होंगी। इस ट्रेन में आटोमेटिक भोजन व पेय वेंडिंग मशीन, स्मोक डिटेक्शन अलार्म सिस्टम, मोड्यूलर बायो-टॉयलेट्स जैसी सुविधाएं हैं। इस ट्रेन के उप्पर डेक में 50 यात्री तथा लोअर डेक पर 48 यात्री सफर कर सकते हैं। इस ट्रेन की तीन कोच में डाइनिंग सुविधा हैं। इसमें 104 यात्री बैठक सकते हैं। जबकि 5 कोच में डाइनिंग की सुविधा नही है, इसमें 120 यात्री सफ़र कर सकते  हैं।

यह ट्रेन विशाखापट्नम से सुबह 5:45 पर रवाना होगी, यह विजयवाड़ा में 11:15 पर पहुंचेगी। वापसी पर यह ट्रेन विजयवाडा से शाम को 5:50 पर रवाना होगी तथा विशाखापट्नम में 10:55 पर पहुंचेगी। यह ट्रेन दुव्वुडा, अनकपल्ले, तुनि, समरलकोटा, राजामहेंद्रवरम तथा एलुरु से होकर गुजरेगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

आन्ध्र प्रदेश ने स्वतंत्रता दिवस पर लांच किया “विलेज वालंटियर सिस्टम”

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने सरकार का फ्लैगशिप कार्यक्रम “विलेज वालंटियर सिस्टम” लांच किया है। इसका उद्देश्य लोगों के घर तक सरकारी सेवा उपलब्ध करवाना है। इस सन्दर्भ में मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने विजयवाड़ा  में घोषणा की।

विलेज वालंटियर सिस्टम

इस योजना को औपचारिक रूप से 2 अक्टूबर, 2019 को लांच किया जायेगा। इस योजना का उद्देश्य लोगों को उनके घर तक सरकारी सेवा उपलब्ध करवाना है।

प्रत्येक गाँव में “गाँव सचिवालय” की स्थापना की जायेगी, इसके द्वारा 72 घंटे के भीतर व्यक्ति को सेवा मुहैया करवाई जायेगी। इसके लिए सरकार तथा राज्य के लोगों के बीच स्वयंसेवक कड़ी के रूप में कार्य करेंगे।

इस योजना में 2.8 लाख से अधिक स्वयंसेवक कार्य करेंगे। एक स्वयंसेवक प्रत्येक गाँव में 50 परिवारों को कवर करेगा। इन स्वयंसेवकों को पहचान पत्र जारी किये जायेंगे और उन्हें प्रति माह 5,000 रुपये भत्ते के रूप में दिए जायंगे।

लोगों की शिकायतों के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय में एक कॉल सेंटर स्थापित किया जायगा, इसके लिए 1902 टेलीफोन नंबर शुरू किया जायेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement