व्यापार

बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स में किया गया 12वें ASEM सम्मेलन का आयोजन

12वें एशिया-यूरोप बैठक शिखर सम्मेलन का आयोजन बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स में किया गया। इस वर्ष ASEM शिखर सम्मेलन की “वैश्विक चुनौतियों के लिए वैश्विक साझेदार” थी। इसकी अध्यक्षता यूरोपीय परिषद् के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने की थी। इस शिखर सम्मेलन में 51 यूरोपीय तथा एशियाई देशों ने हिस्सा लिया, इसमें यूरोपीय संघ तथा आसियान के महासचिव भी शामिल हुए।  इस सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने किया। इस शिखर सम्मेलन में प्रतिभागी देशों द्वारा कनेक्टिविटी, व्यापार, निवेश, धारणीय विकास, जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद, समुद्री सुरक्षा तथा साइबर स्पेस सम्बन्धी मुद्दों पर चर्चा की गयी।

एशिया-यूरोप बैठक (ASEM)

ASEM में एशिया और यूरोप से 51 देश वार्ता में हिस्सा लेते हैं। इसकी स्थापना 1 मार्च 1996 में की गयी थी, इसके पहले सम्मेलन का आयोजन थाईलैंड की राजधानी बैंकाक में की गयी थी। ASEM विश्व की 62.3% जनसँख्या, 57.2 जीडीपी तथा विश्व के 60% व्यापार का प्रतिनिधित्व करता है। इस सम्मेलन में राजनीतिक, आर्थिक व सांस्कृतिक मुद्दों पर चर्चा की जाती है।

एशिया-यूरोप बैठक (ASEM) के सदस्य

वर्तमान में एशिया-यूरोप बैठक (ASEM) के कुल 53 सदस्य हैं, इसमें 51 देश तथा 2 क्षेत्रीय संगठन शामिल हैं। ASEM के सदस्य देश हैं : ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बांग्लादेश, बेल्जियम, ब्रूनेई, बुल्गारिया, कंबोडिया, चीन, क्रोएशिया, सायप्रस, चेक गणराज्य, डेनमार्क, एस्तोनिया, फ़िनलैंड, फ्रांस, जर्मनी, ग्रीस, हंगरी, भारत, इंडोनेशिया, आयरलैंड, इटली, जापान, कजाखस्तान, दक्षिण कोरिया, लाओ PDR, लातविया, लिथुआनिया, लक्सेम्बर्ग, मलेशिया, माल्टा, मंगोलिया, म्यांमार, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, नॉर्वे, पाकिस्तान, फिलीपींस, पोलैंड, पुर्तगाल, रोमानिया, रूस, सिंगापुर, स्लोवाकिया, स्लोवेनिया, स्पेन, स्वीडन, स्विट्ज़रलैंड, थाईलैंड, यूनाइटेड किंगडम तथा वियतनाम। 51 देशों के अतिरिक्त ASEM को अन्य सदस्य क्षेत्रीय संगठन यूरोपीय संघ और आसियान सचिवालय हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , ,

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने किये 3 दिवसीय राष्ट्रीय व्यापारी सम्मेलन का उद्घाटन

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 3 दिवसीय राष्ट्रीय व्यापारी सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा आर्थिक सुधार के लिए उठाये जा रहे क़दमों के बारे में जानकारी दी। राष्ट्रीय व्यापारी सम्मेलन में GST के सरलीकरण, ई-कॉमर्स के लिए नीति, खुदरा व्यापार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की प्रासंगिकता, डिजिटल भुगतान तथा ऋण इत्यादि मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। सभी मुद्दों के लिए तीन दिन में अलग-अलग सत्र आयोजित किये जायेंगे। इस सम्मेलन के बाद CAIT सरकार को अपनी सिफारिशें सौंपेगी।

अखिल भारतीय व्यापारी संघ

अखिल भारतीय व्यापारी संघ स्थापना 1990 के दशक में की गयी थी, इसकी स्थापना का उद्देश्य सदस्य व्यापारियों की समस्याओं का समाधान पर उन्हें प्रभावशाली सेवाएं प्रदान करना है। अखिल भारतीय व्यापारी संघ का मुख्यालय नई दिल्ली के ‘व्यापार भवन’ में स्थित है।

मुख्य उद्देश्य :

व्यापारी वर्ग को सहायता प्रदान करना।

व्यापारियों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रशासकों अथवा सरकार के समक्ष समस्या प्रस्तुत करना।

व्यापारियों को प्रशिक्षण प्रदान करना।

समय-समय पर चर्चा इत्यादी के लिए सम्मेलनों का आयोजन करना।

व्यापारियों के लिए निष्पक्ष व्यापार सम्बन्धी नीति का निर्माण करना।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement