व्लादिमीर पुतिन

नए सैटेलाइट सिस्टम के लांच के बाद रोसकॉसमॉस इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करेगा

रूस की सरकारी अन्तरिक्ष कारपोरेशन (रोसकॉसमॉस) ने “मैराथन” नामक सैटेलाइट सिस्टम के लांच के साथ इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करने की योजना तैयार की है। यह नया सैटेलाइट सिस्टम रूस के “स्फीयर” सैटेलाइट समूह का हिस्सा होगा, इसका निर्माण 2026 तक पूरा हो जायेगा। हालांकि मैराथन सिस्टम के कुल उपग्रहों की जानकारी अभी तक सार्वजनिक नहीं की गयी है।

पृष्ठभूमि

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने स्फीयर सैटेलाइट समूह परियोजना को मंज़ूरी दी है, इसमें लगभग 640 सैटेलाइट निर्मित किये जायेंगे। अमेरिका का इरीडियम सिस्टम काफी समय से वौइस् कम्युनिकेशन मार्केट में कार्य कर रहा है। जबकि वनवेब और स्टारलिंक सैटेलाइट सिस्टम ब्रॉडबैंड इन्टरनेट सेगमेंट में कार्य कर रहे हैं। सैटेलाइट कम्युनिकेशन का तीसरा सेगमेंट इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT) है।

इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT)

IoT कई डिवाइसेस जैसे स्मार्टफ़ोन, वेरेबल डिवाइसेस, होम एप्लायंसेज और वाहनों इत्यादि का नेटवर्क है, जिससे यह सभी डिवाइसेस आपस में जुड़ी होती है, इस प्रकार यह डिवाइसेस आपस में डाटा का आदान प्रदान कर सकती हैं। IoT में सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जा सकता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

रूस ने भारत में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश का दिया आश्वासन

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारत में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की है, रूस भारत में परिवहन, उर्जा, रक्षा, डिजिटल अर्थव्यवस्था इत्यादि क्षेत्रों में निवेश करेगा। इसके साथ-साथ दोनों देश व्यापार के मार्ग में आने वाली रुकावटों को भी दूर करने का प्रयास करेंगे।

मुख्य बिंदु

भारत और रूस के बीच आर्थिक व राजनयिक सम्बन्ध काफी पुराने हैं। अब इन संबंधों व्यापारिक संबंधों के माध्यम से और भी प्रगाढ़ किया जा रहा है। इसके लिए रूस भारत में बड़े पैमाने पर निवेश करेगा। राष्ट्रपति पुतिन ने भारत में एक परमाणु उर्जा प्लांट स्थापित करने के लिए भी प्रतिबद्धता व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने रूस को भारत में सागरमाला परियोजना, सड़क निर्माण, मेट्रो प्रोजेक्ट्स तथा बंदरगाहों में निवेश के लिए आमंत्रित किया। इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री मोदी ने रक्षा औद्योगिक पार्क तथा आईटी पार्क स्थापित करने का प्रस्ताव भी रखा। रूसी कारोबारियों की सहायता के लिए भारत में रशिया प्लस नामक फोरम गठित किया गया है। यह फोरम रूसी कारोबारियों के लिए भारत में व्यापार सुगम बनाता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement