संयुक्त राष्ट्र

इंद्र मणि पांडे को जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत और स्थायी प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया गया

जिनेवा, स्विट्जरलैंड में संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के लिए, 1990 बैच के भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) अधिकारी इंद्र मणि पांडे को भारत के अगले राजदूत और स्थायी प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया गया है। विदेश मंत्रालय में, इंद्र मणि पांडे वर्तमान में अतिरिक्त सचिव के रूप में कार्यरत हैं।

मुख्य बिंदु

इंद्र मणि पांडेय 1983 बैच के भारतीय विदेश सेवा अधिकारी राजीव कुमार चन्द्र का स्थान लेंगे। राजीव कुमार चन्द्र को इस पद पर  30 मई, 2017 को नियुक्त किया गया था।

लगभग तीन दशक के करियर में, इंद्रा मणि पांडे ने विदेश मामलों के निरस्त्रीकरण और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों के विभाग में संयुक्त सचिव के रूप में भी काम किया है और काबुल (अफगानिस्तान), काहिरा (मिस्र), मस्कट (ओमान) और इस्लामाबाद (पाकिस्तान) दमिश्क (सीरिया) में भारतीय मिशनों का हिस्सा रहे हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

RIC: रूस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सीट के लिए भारत का समर्थन किया

रूस-भारत-चीन (आरआईसी) के विदेश मंत्रियों की बैठक 23 जून, 2020 को आयोजित की गयी। इस त्रिपक्षीय आभासी बैठक की मेजबानी रूसी विदेश मंत्री सेर्गेई लावरोव द्वारा की गयी। RIC की बैठक द्वितीय विश्व युद्ध के समापन के बाद संयुक्त राष्ट्र की 75 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए आयोजित की गयी।

मुख्य बिंदु

वर्षों से रूस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता के लिए भारत के प्रवेश का समर्थन किया है, आरआईसी की बैठक के दौरान रूसी विदेश मंत्री ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में स्थायी सदस्य के रूप में भारत को शामिल करने के लिए रूस का मजबूत समर्थन व्यक्त किया।

पिछले हफ्ते 17  जून को भारत 192 में से 184 वोट हासिल करके संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक अस्थाई सदस्य बना।

भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने अप्रत्यक्ष रूप से द्वितीय विश्व युद्ध के समय भारतीयों द्वारा किए गए योगदान को याद दिलाते हुए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत को शामिल करने पर बल दिया।

विदेश मंत्री ने चीन को 1938 में भारतीय चिकित्सकों के योगदान के बारे में याद दिलाया जब जापान ने चीन पर आक्रमण किया था। द्वारकानाथ कोटनिस के नेतृत्व में भारतीय मेडिकल मिशन ने बिना किसी नींद के 72 घंटे तक ऑपरेशन किया। मिशन द्वारा 800 से अधिक घायल चीनी सैनिकों का इलाज किया गया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement