सतत विकास लक्ष्य

15 जुलाई: विश्व युवा कौशल दिवस

हर साल 15 जुलाई को विश्व युवा कौशल दिवस मनाया जाता है। यह दिन युवाओं को रोजगार, उद्यमिता और अच्छे काम के कौशल से लैस करने के महत्व को पहचानने के लिए मनाया जाता है। इस वर्ष का दिन निम्नलिखित विषय पर केंद्रित है

Theme: Skills for a resilient youth

मुख्य बिंदु

यह दिवस संयुक्त राष्ट्र द्वारा अन्य विश्व संगठनों के साथ मनाया जाता है। इस दिवस  से संबंधित कार्यक्रम यूनेस्को और आईएलओ द्वारा आयोजित किए जाते हैं। इस दिवस का मुख्य उद्देश्य आज के युवाओं के लिए बेहतर सामाजिक-आर्थिक परिस्थितियों को प्राप्त करना है। इसमें बेरोजगारी और रोजगार के तहत चुनौतियां शामिल हैं।

संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र ने 2014 के बाद से दिन को चिह्नित करने का निर्णय लिया। श्रीलंका ने G77 और चीन की सहायता से दिसंबर 2018 में एक प्रस्ताव पारित किया। तब से 15 जुलाई को विश्व युवा कौशल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

भारत

भारत में, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय ने विश्व युवा कौशल दिवस मनाने के लिए एक डिजिटल कॉन्क्लेव का आयोजन किया है। पीएम मोदी ने इस सम्मेलन को संबोधित ने किया।

सतत विकास लक्ष्य

सतत विकास लक्ष्य 4 का उद्देश्य तकनीकी और व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करना है। यह सभी के लिए व्यापक और समान गुणवत्ता वाली शिक्षा के अवसर सुनिश्चित करता है।

इंचियोन घोषणा

15 जुलाई, 2015 को दक्षिण कोरिया के इंचियोन में आयोजित विश्व शिक्षा मंच में इस घोषणा को अपनाया गया था। इस घोषणा ने आजीवन सीखने के अनुभवों को पहचानते हुए कार्रवाई के लिए ‘शिक्षा 2030’ की रूपरेखा को अपनाया।

महत्व

1997 और 2017 के बीच, युवा आबादी में 139 मिलियन की वृद्धि हुई। दूसरी ओर, युवा श्रम शक्ति की आबादी में 58.7 मिलियन की कमी हुई। विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में पांच युवा श्रमिकों में से दो प्रति दिन 3.10 डालर से कम पर गुजर-बसर कर रहे हैं।

ग्लोबल ट्रेंड्स फॉर यूथ 2020

ग्लोबल ट्रेंड्स फॉर यूथ रिपोर्ट अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन द्वारा जारी की गई है। इस रिपोर्ट के अनुसार 2017 के बाद से टेक्नोलॉजी और भविष्य की नौकरियों में बढ़ोतरी हुई है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , ,

सतत विकास लक्ष्यों को हासिल करने के मामले में तेलंगाना शीर्ष पर : संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के अनुसार सतत विकास लक्ष्यों को हासिल करने के मामले में तेलंगाना सबसे बेहतरीन प्रदर्शन करने वाला राज्य है। दिसम्बर, 2019 में भारत ने SDG India Index जारी किया था, भारत इस प्रकार का सूचकांक जारी करने वाला पहल देश है। इस सूचकांक को नीति आयोग द्वारा लांच किया गया है।

मुख्य बिंदु

सतत विकास लक्ष्यों (SDG) हासिल करने के मामले में भारतीय राज्यों में तेलंगाना प्रथम स्थान है। तेलंगाना ने 82 का स्कोर हासिल किया है। इसके बाद आंध्र प्रदेश और कर्नाटक का स्थान है, इन दोनों राज्यों को 72 का स्कोर प्राप्त हुआ है।

17 सतत विकास लक्ष्यों में 8 में तेलंगाना ने सुधार किया है। तेलंगाना का स्कोर 75 से बढ़कर 82 पर पहुँच गया है। स्वच्छ जल, उर्जा तथा स्वच्छता के मामले में तेलंगाना का प्रदर्शन बेहतरीन रहा। असमानता को कम करने के मामले में भी तेलंगाना ने प्रथम स्थान हासिल किया। सस्ती तथा स्वच्छ उर्जा के मामले में तेलंगाना को तीसरा तथा जलवायु क्रिया के मामले में चौथा स्थान प्राप्त हुआ है।

आर्थिक विकास के मामले में तेलंगाना 75% से 82% पर पहुँच गया है। स्वच्छ जल तथा स्वच्छता के मामले में तेलंगाना का प्रदर्शन 55% से सुधरकर 84% हो गया है। सतत शहर व समुदाय के मामले में तेलंगाना का प्रदर्शन 44% से सुधरकर 62% हो गया है।

सतत विकास लक्ष्य क्या हैं?

सतत विकास लक्ष में 17 वैश्विक गैर-बाध्यकारी लक्ष्य शामिल हैं, इनमे से कुछ एक लक्ष्यों को 2015 से 2030 के बीच पूरा करने का प्रयास किया जायेगा। यह सतत विकास लक्ष्यों के सेट हैं, इसमें आर्थिक विकास, सामाजिक समावेश व पर्यावरण धरणीयता तथा सुशासन शामिल है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement