सतीश धवन अन्तरिक्ष केंद्र

तमिलनाडु में की जायेगी नए राकेट लांच पैड की स्थापना

केंद्र सरकार तमिलनाडु में कुलशेकरपत्तिनम के निकट राकेट लांच पैड की स्थापना की योजना बना रही है। वर्तमान में भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) के दो लांच पैड सतीश धवन अन्तरिक्ष केंद्र (श्रीहरिकोटा, आंध्र प्रदेश) में हैं। यह निर्णय भारत से अधिक लांच करने की योजना का हिस्सा है।

मुख्य बिंदु

इस नए लांच पैड का उपयोग जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लांच व्हीकल (GSLV) मार्क III, अवतार रीयूजेबल लांच व्हीकल (RLV), यूनिफाइड मोड्यूलर लांच व्हीकल (UMLV), स्माल सैटेलाइट लांच व्हीकल (SSLV) जैसे राकेट के लिए किया जा सकता है।

भारत में राकेट लांच

इसरो के अनुसार PSLV के द्वारा 1994 से लेकर 2015 तक 84 उपग्रह लांच किये जा चुके हैं, इनमे से 51 अंतर्राष्ट्रीय ग्राहकों के लिए थे। 2018 में इसरो ने 17 मिशन लांच किये थे। अब इसरो प्रतिवर्ष 30 से भी ज्यादा मिशन लांच करता है।

सतीश धवन अन्तरिक्ष केंद्र (श्रीहरिकोटा) में सभी लांचर्स का एकीकरण किया जाता है, यहाँ पर दो लांच पैड हैं, जहाँ से सभी GSLV तथा PLSV राकेट लांच किये जाते हैं। इसरो अपने अधिकतर ग्राहकों के उपग्रहों को PSLV की सहायता से लांच करता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

इसरो ने श्रीहरिकोटा स्पेसपोर्ट में किया एस-बैंड पोलरमिट्री डोपलर मौसम राडार का उद्घाटन

इसरो के चेयरमैन डॉ. के. सीवान ने श्रीहरिकोटा स्पेसपोर्ट के सतीश धवन अन्तरिक्ष केंद्र में एस-बैंड पोलरमिट्री डोपलर मौसम राडार को लांच किया। डोपलर मौसम राडार का उपयोग 500 किलोमीटर की रेंज में मौसम के अवलोकन के लिए किया जायेगा।

डोपलर मौसम राडार

इस स्वदेशी राडार का निर्माण भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड द्वारा किया गया है। यह ‘मेक इन इंडिया’ के तहत निर्मित किया गया 7वां राडार है। इस राडार से वायु के बहाव व सरंचना के बारे में विस्तृत जानकारी मिलेगी। इस राडार से वर्षा पूर्वानुमान की शुद्धता में वृद्धि होगी। इस राडार की सहायता से चक्रवातों के बारे में भी जानकारी भी मिल सकेगी। इससे मौसम की मात्रात्मक प्रणाली में में सुधार होगा और विपरीत मौसम के बारे में समय से पूर्व ही चेतावनी जारी की जा सकेगी, जान-माल की रक्षा में यह बेहद उपयोगी सिद्ध होगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement