सिक्किम

सिक्किम का 45वां राज्य दिवस मनाया गया

16 मई, 2020 को सिक्किम ने अपना 45वां राज्य दिवस मनाया। प्रतिवर्ष 16 मई को सिक्किम अपना राज्य दिवस मनाता है क्योंकि 1975 में इसी दिन यह राज्य अस्तित्व में आया था।

इतिहास

1947 में भारत के स्वतंत्र होने के बाद, सिक्किम ने भारत के साथ रक्षा का दर्जा प्राप्त करना जारी रखा। हालाँकि 1973 में राज्य में शाही विरोधी दंगे हुए। अंततः 1975 में सम्राट को पदच्युत कर दिया गया। एक जनमत संग्रह के द्वारा यह भारत में शामिल हो गया।

सिक्किम भारत में शामिल होने वाला 22वां राज्य था। सिक्किम की सीमाएँ तीन देशों अर्थात् चीन, भूटान और नेपाल से लगती हैं।

सिक्किम राज्य का लगभग 35% भाग कंचनजंगा राष्ट्रीय उद्यान द्वारा कवर किया गया है। सिक्किम की आधिकारिक भाषाओं में नेपाली, अंग्रेजी, सिक्किमी और लेप्चा शामिल हैं।

2016 में, सिक्किम भारत में और विश्व में भी पहला पूर्ण जैविक राज्य बना था। इसे हासिल करने की पहल 2003 में शुरू हुई थी।

सिक्किम के प्रतीक

सिक्किम का राज्य पशु लाल पांडा है, राज्य पक्षी लाल तीतर है, राज्य फूल नोबल डेंड्रोबियम है और राज्य वृक्ष रोडोडेंड्रोन है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

सिक्किम के ग्लेशियर हिमालय के अन्य हिस्सों की तुलना में तेजी से पिघल रहे हैं : अध्ययन

वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी, देहरादून के वैज्ञानिकों ने हाल ही में पाया है कि सिक्किम में ग्लेशियर अन्य हिमालयी क्षेत्रों की तुलना में तेज़ी से पिघल रहे हैं। यह संस्थान विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत हिमालय के भूविज्ञान के अध्ययन के लिए एक स्वायत्त अनुसंधान संस्थान है। ‘साइंस ऑफ द टोटल एनवायरनमेंट’ में प्रकाशित किए गए अध्ययन से ज्ञात हुआ है कि सिक्किम में ग्लेशियर 1991 से 2015 तक काफी तेज़ी से कम हुए हैं। सिक्किम में जलवायु परिवर्तन के कारण छोटे आकार के ग्लेशियर समाप्त हो रहे हैं बड़े ग्लेशियर छोटे हो रहे हैं।

मुख्य बिंदु

इस अध्ययन में 1991 से 2015 के बीच 23 ग्लेशियरों और उनके प्रसार का आकलन किया गया है। इस अध्ययन के अनुसार बड़े ग्लेशियर आकार में छोटे हो रहे हैं और छोटे ग्लेशियर समाप्त हो रहे हैं। वर्ष 2000 के बाद से, पश्चिमी और मध्य हिमालय के ग्लेशियरों के पिघलने की दर कम हुई। जबकि सिक्किम के ग्लेशियरों के पिघलने की दर बढ़ी है।

वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी

यह संस्थान विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत कार्य करता है। इसकी स्थापना 1968 में की गयी थी। यह संस्थान विभिन्न संगठनों को सलाहकार और परामर्श सेवाएं प्रदान करता है। यह जल विद्युत परियोजनाओं की भू-तकनीकी सम्भावना, उनकी नींव और स्थान के चयन पर परामर्श प्रदान करता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement