सीमा सड़क संगठन

जम्मू और कश्मीर में देविका और पुनेजा पुल का उद्घाटन किया गया

आभासी मंच के माध्यम से केन्द्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने  सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित  देविका और पुनेजा पुल का  उद्घाटन 24 जून, 2020 को किया।

देविका पुल

यह पुल जम्मू और कश्मीर के उधमपुर में स्थित है। 75 लाख रुपये की लागत से बने इस पुल ने आस-पास के स्थानीय लोगों की 70 साल पुरानी मांग को पूरा किया। भारतीय सेना के उत्तरी कमान का मुख्यालय उधमपुर में स्थित है। यातायात के मुद्दों को हल करने के अलावा, यह पुल भारतीय सेना के वाहनों और काफिले के लिए एक सहज मार्ग प्रदान करेगा। यह पुल 10 मीटर लंबा है।

पुनेजा  पुल

यह पुल जम्मू और कश्मीर के डोडा जिले में भदरवाह शहर में स्थित है। इस पुल के निर्माण की लागत 4 करोड़ रुपये थी। यह पुल 50 मीटर लंबा है।

सीमा सड़क संगठन (BRO)

सीमा सड़क संगठन (BRO) भारत के सीमान्त क्षेत्रों में सड़क नेटवर्क का निर्माण तथा प्रबंधन करता है। यह संगठन अफ़ग़ानिस्तान, भूटान, म्यांमार और श्रीलंका में भी अधोसंरचना निर्माण कार्य करता है। इसकी स्थापना 7 मई, 1960 को की गयी थी। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

झारखण्ड ने सीमा सड़क संगठन में 11,800 श्रमिकों की भर्ती को मंज़ूरी दी

सीमावर्ती क्षेत्रों के पास की सड़कें वर्तमान स्थिति में बहुत महत्वपूर्ण हैं वर्तमान समय में भारतीय और चीनी सेनाएं पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में एक दूसरे का सामना कर रही हैं।

मुख्य बिंदु

अत्यधिक तनावपूर्ण स्थिति में, झारखंड के मुख्यमंत्री ने सीमा सड़क संगठन को चीन की सीमा में महत्वपूर्ण परियोजनाओं को लागू करने के लिए राज्य से 11,800 श्रमिकों की भर्ती करने की मंजूरी दी है।

समझौता ज्ञापन

झारखंड राज्य बीआरओ के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करेगा ताकि भर्ती होने वाले श्रमिकों का कल्याण सुनिश्चित हो सके। यह समझौता ज्ञापन प्रधानमंत्री कार्यालय और झारखंड राज्य श्रम विभाग द्वारा तैयार किया गया है।

भर्ती

भर्ती किए गए कर्मचारियों को लद्दाख में ऑपरेशन विजयक, जम्मू-कश्मीर में प्रोजेक्ट बीकॉन, हिमाचल प्रदेश में प्रोजेक्ट दीपक और उत्तराखंड में प्रोजेक्ट शिवालिक में नियुक्त किया जायेगा।

कानून

बीआरओ वर्तमान में “मेट्स-स्थानीय नेटवर्क संपर्क बिंदु” के तहत लद्दाख, लेह और हिमाचल प्रदेश में श्रमिकों को लाता है। ऐसा हर साल दो बार किया जा रहा है। एक बार अप्रैल-मई में और अक्टूबर-नवंबर में।

वर्तमान में, बीआरओ को अंतर-राज्य प्रवासी कामगार अधिनियम, 1979 के तहत झारखंड से श्रमिकों की भर्ती करने की अनुमति दी गई है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement