सीमा सड़क संगठन

अरुणाचल प्रदेश में दिफ्फो पुल का उद्घाटन किया गया

केन्द्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अरुणाचल प्रदेश में 426.60 मीटर लम्बे प्री-स्ट्रेस्ड कंक्रीट बॉक्स गर्डर टाइप दिफ्फो पुल का उद्घाटन किया। यह पुल अरुणाचल प्रदेश में दिफ्फो नदी पर रोइंग-कोरोनु-पाया सड़क में निर्मित किया गया है।

इस पुल से अरुणाचल प्रदेश की दिबांग घाटी तथा लोहित घाटी क्षेत्र के बीच संपर्क मार्ग मजबूत बनेगा। यह सड़क मार्ग चीन के साथ लगती भारत की सीमा के लिए भारतीय सेना के लिए भी उपयोगी होगा। इस पुल का निर्माण प्रोजेक्ट उदयक के अंतर्गत सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा किया गया है।

प्रोजेक्ट उदयक

प्रोजेक्ट उदयक की शुरुआत सीमा सड़क संगठन (BRO) ने जून 1990 में डूमडूमा क्षेत्र में की थी। “उदयक” नाम उगते हुए सूरज की भूमि का समानार्थी है। इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में सड़क निर्माण गतिविधियाँ शामिल हैं।

सीमा सड़क संगठन (BRO)

सीमा सड़क संगठन (BRO) भारत के सीमान्त क्षेत्रों में सड़क नेटवर्क का निर्माण तथा प्रबंधन करता है। यह संगठन अफ़ग़ानिस्तान, भूटान, म्यांमार और श्रीलंका में भी अधोसंरचना निर्माण कार्य करता है। इसकी स्थापना 7 मई, 1960 को की गयी थी। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

शांतिकाल में सीमा सड़क संगठन (BRO) के कार्य निम्नलिखित हैं :

  • सीमा क्षेत्रों में ऑपरेशनल रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर ऑफ़ जनरल स्टाफ का विकास व प्रबंधन।
  • अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगने वाले राज्यों के सामाजिक-आर्थिक विकास में योगदान देना।

युद्धकाल में BRO के कार्य निम्नलिखित हैं:

  • ओरिजिनल सेक्टर तथा री-डिप्लाएड सेक्टर में लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल का प्रबंधन
  • युद्ध प्रयास के दौरान सरकार द्वारा सौंपे गये अतिरिक्त कार्य

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , ,

सीमा सड़क संगठन ने 7 मई 2018 को अपना 58 वां रेजिंग डे मनाया

सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने 7 मई 2018 को अपना 58 वां रेजिंग डे (Raising Day) मनाया। बीआरओ देश के सीमावर्ती इलाकों में आधारभूत संरचना विकास के क्षेत्र में अग्रणी सरकारी संगठन है। 1960 में इसकी स्थापना के बाद से, यह 2 से लेकर 19 परियोजनाओं के साथ आगे बढ़ रहा है। इसके द्वारा किए गए कार्यों ने देश के दूरस्थ इलाकों में क्षेत्रीय अखंडता और सामाजिक-आर्थिक उत्थान को सुनिश्चित किया है।

सीमा सड़क संगठन (बीआरओ)

बीआरओ भारत के दूरस्थ और दूरदराज के सीमावर्ती इलाकों में सामरिक आधारभूत संरचना के निर्माण, रखरखाव और उन्नयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह मित्र पड़ोसी देशों में सड़क नेटवर्क विकसित करता है। यह रक्षा मंत्रालय के तहत काम करता है। इसे 7 मई 1960 को स्थापित किया गया था। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है। सीमा सड़क इंजीनियरिंग सेवा (बीआरईएस) के अधिकारी और जनरल रिजर्व अभियंता बल (जीआरईएफ) के कर्मचारी बीआरओ के पैरेंट कैडर (parent cadre) हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement