ASEAN

थाईलैंड में किया गया 6वीं ADMM Plus बैठक का आयोजन

थाईलैंड में 6वीं ADDM-प्लस का आयोजन किया गया। आसियान रक्षा मंत्री बैठक तथा 6वीं ADDM-प्लस दक्षिण पूर्व एशिया में सुरक्षा के लिए प्रमुख मंत्रिस्तरीय प्लेटफार्म है, इस प्लेटफार्म पर आसियान देशों द्वारा सुरक्षा व सहयोग पर चर्चा की जाती है। इस सम्मेलन में भारत, ऑस्ट्रेलिया, चीन, जापान, न्यूजीलैंड, दक्षिण कोरिया, रूस तथा अमेरिका के रक्षा मंत्रियों ने भी हिस्सा लिया।

ADDM प्लस

ADDM प्लस आसियान देशों तथा 8 वार्ता साझेदारों के लिए सुरक्षा सुदृढ़ करने तथा शांति व विकास के लिए रक्षा सहयोग के लिए प्लेटफार्म है। इसका उद्देश्य वार्ता तथा पारदर्शिता के साथ सदस्य देशों में आपसी विश्वास को मज़बूत करना है। ADDM प्लस सम्मेलन का पहला आयोजन 2010 में वियतनाम की राजधानी हनोई में किया गया। इस सम्मेलन में रक्षा मंत्रियों ने समुद्री सुरक्षा, आतंकवादी विरोधी कारवाई, शांति मिशन तथा मानवीय सहायता जैसे मुद्दों पर सहमती प्रकट की।

आसियान

10 दक्षिण पूर्व एशियाई देशों का अंतर-सरकारी संगठन है। इसकी स्थापना 6 अगस्त 1967 को हुई थी। इसका मुख्यालय जकार्ता, इंडोनेशिया में है। इसके सदस्य देश इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, ब्रुनेई, कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम हैं।

चार्टर में आसियान के उद्देश्य के बारे में बताया गया है।सदस्य देशों की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और स्वतंत्रता को कायम रखना साथ ही विवादों का शांतिपूर्ण निपटारा हो इसके उदेश्यों में शामिल है। इसके सेक्रेट्री जनरल आसियान द्वारा पारित किए प्रस्तावों को लागू करवाने और कार्य में सहयोग प्रदान करने का काम करतें है। इनका कार्यकाल पांच वर्ष का होता है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

भारत-आसियान शिखर सम्मेलन 2019

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बैंकाक में 16वें भारत-आसियान शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया है। वर्त्तमान में आसियान शिखर सम्मेलन का आयोजन थाईलैंड के बैंकाक में किया जा रहा है। 2020 में अगले आसियान शिखर सम्मेलन का आयोजन वियतनाम में किया जायेगा।

मुख्य बिंदु

  • भारत ने भौतिक तथा डिजिटल कनेक्टिविटी को सुधारने के लिए एक अरब डॉलर की लाइन ऑफ़ क्रेडिट जारी की है।
  • भारत ने इस बात पर भी बल दिया कि भारत-आसियान शिखर सम्मेलन 2018 तथा सिंगापुर अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के बाद भारत और आसियान में सहयोग में वृद्धि हुई है।
  • भारत ने अनुसन्धान, कृषि, इंजीनियरिंग, विज्ञान तथा ICT के क्षेत्र में साझेदारी तथा क्षमता निर्माण में दिलचस्पी दिखाई है।
  • भारत ने नीली अर्थव्यवस्था तथा समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग को मज़बूत करने में दिलचस्पी दिखाई है।
  • भारत ‘एक्ट ईस्ट पालिसी’ को हिन्द-प्रशांत रणनीति की महत्वपूर्ण आधारशिला मानता है।

आसियान

यह 10 दक्षिण पूर्व एशियाई देशों का अंतर-सरकारी संगठन है। इसकी स्थापना 6 अगस्त 1967 को हुई थी। इसका मुख्यालय जकार्ता, इंडोनेशिया में है।

इसके सदस्य देश इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, ब्रुनेई, कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम हैं।

चार्टर में आसियान के उद्देश्य के बारे में बताया गया है। सदस्य देशों की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और स्वतंत्रता को कायम रखना साथ ही विवादों का शांतिपूर्ण निपटारा हो इसके उदेश्यों में शामिल है। इसके सेक्रेट्री जनरल आसियान द्वारा पारित किए प्रस्तावों को लागू करवाने और कार्य में सहयोग प्रदान करने का काम करतें है। इनका कार्यकाल पांच वर्ष का होता है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement