avangard

रूस ने विश्व की प्रथम हाइपरसोनिक परमाणु मिसाइल अवनगार्ड को ऑपरेशनल किया

रूस ने विश्व की प्रथम हाइपरसोनिक परमाणु मिसाइल अवनगार्ड को ऑपरेशनल कर दिया है। पिछले वर्ष किये गये परीक्षण में  हाइपरसोनिक (अतिपराध्वनिक) परमाणु हथियार डिलीवरी सिस्टम “अवनगार्ड” का सफल परीक्षण दक्षिणी यूराल पर्वत में दोम्बारोव्सकी मिसाइल बेस में किया गया था। परीक्षण के दौरान इसने 6000 किलोमीटर दूर स्थित अपने लक्ष्य को कमचटका में कुरा शूटिंग रेंज में अपने लक्ष्य को सटीकता से भेदा था।

अवनगार्ड

अवनगार्ड हाइपरसोनिक ग्लाइड ग्लाइड व्हीकल ध्वनि से 27 गुना तेज रफ़्तार से अपने लक्ष्य को भेदता है। इसका निर्माण नए कंपोजिट मटेरियल से बनाया गया है, यह 2000 डिग्री सेल्सियस के ताप को सहने की क्षमता रखता है।  अवनगार्ड ज़मीन से कई दर्ज़न किलोमीटर ऊपर वायुमंडल में उड़ान भर सकता है, जिस कारण यह अधिकतर एंटी-मिसाइल डिफेन्स सिस्टम को बायपास कर सकता है। अवनगार्ड की लम्बाई लगभग 5.4 मीटर है, यह 1 मेगाटन तक का परमाणु अथवा पारंपरिक हथियार ले जाने में सक्षम है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

हाइपरसोनिक परमाणु हथियार डिलीवरी सिस्टम “अवनगार्ड” – महत्वपूर्ण तथ्य

हाल ही में रूस ने हाइपरसोनिक (अतिपराध्वनिक) परमाणु हथियार डिलीवरी सिस्टम “अवनगार्ड” का सफल परीक्षण दक्षिणी यूराल पर्वत में दोम्बारोव्सकी मिसाइल बेस में किया। परीक्षण के दौरान इसने 6000 किलोमीटर दूर स्थित अपने लक्ष्य को कमचटका में कुरा शूटिंग रेंज में अपने लक्ष्य को सटीकता से भेदा।

महत्वपूर्ण तथ्य

अवनगार्ड हाइपरसोनिक ग्लाइड ग्लाइड व्हीकल ध्वनि से 27 गुना तेज रफ़्तार से अपने लक्ष्य को भेदता है। इसका निर्माण नए कंपोजिट मटेरियल से बनाया गया है, यह 2000 डिग्री सेल्सियस के ताप को सहने की क्षमता रखता है।  अवनगार्ड ज़मीन से कई दर्ज़न किलोमीटर ऊपर वायुमंडल में उड़ान भर सकता है, जिस कारण यह अधिकार एंटी-मिसाइल डिफेन्स सिस्टम को बायपास कर सकता है। अवनगार्ड की लम्बाई लगभग 5.4 मीटर है, यह 1 मेगाटन तक का परमाणु अथवा पारंपरिक हथियार ले जाने में सक्षम है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement