China-Pakistan Economic Corridor

पाकिस्तान और चीन ने पाक-अधिकृत कश्मीर में जलविद्युत परियोजना के लिए 2.4 अरब डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किये

25 जून, 2020 को  1124 मेगावाट कोहाला जल विद्युत परियोजना के निर्माण के लिए एक त्रिपक्षीय उर्जा खरीद समझौते (TPPA) पर  हस्ताक्षर किए गए। इस समझौते पर पाकिस्तान सरकार, चीनी कंपनी- चाइना थ्री गोरजेस कॉर्पोरेशन (चीनी सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी) और आज़ाद कश्मीर सरकार (पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का हिस्सा) के बीच समझौता हुआ है।

कोहाला जलविद्युत परियोजना

यह परियोजना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के मुजफ्फराबाद जिले के सिरन और बरसला के गांवों के पास स्थित है। यह जल विद्युत परियोजना झेलम नदी पर स्थित है।

यह परियोजना चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का हिस्सा है। इस परियोजना की अनुमानित लागत 2,364 मिलियन डालर है और 2026 तक इसके पूरा होने की उम्मीद है। इस हाइड्रो पावर प्लांट का निर्माण कोहाला हाइड्रोपावर कंपनी लिमिटेड (KHCL) द्वारा किया जाएगा। KHCL चाइना थ्री गोरजेस कॉर्पोरेशन की सहायक कंपनी है।

चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर

चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव का हिस्सा है, इसका उद्देश्य विश्व भर में अधोसंरचना प्रोजेक्ट्स को फंडिंग प्रदान करके चीनी प्रभाव में वृद्धि करना है। चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर में परिवहन नेटवर्क, उर्जा परियोजनाओं, ग्वादर बन्दरगाह तथा विशेष आर्थिक क्षेत्रों का निर्माण किया जायेगा, इसका उद्देश 2030 तक पाकिस्तान को विनिर्माण हब में रूप में स्थापित करना है। पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिम में ग्वादर को चीन के शिनजियांग से रेल व उच्चमार्ग के द्वारा जोड़ा जायेगा। इस प्रोजेक्ट के लिए चीन ने पाकिस्तान को भारी मात्रा में ऋण उपलब्ध करवाया है। यह ऋण चाइना डेवलपमेंट बैंक, एक्सिम बैंक ऑफ़ चाइना तथा इंडस्ट्रियल एंड कमर्शियल बैंक ऑफ़ चाइना द्वारा दिए गये हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , ,

कोहाला हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के क्षेत्र में कोहाला पनबिजली परियोजना को लागू करने के लिए चीन और पाकिस्तान के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। यह परियोजना चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के तहत कार्यान्वित की जा रही है।

मुख्य बिंदु

चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के तहत चीन पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में कोहाला पनबिजली परियोजना स्थापित कर रहा है। इस परियोजना को कार्यान्वित करने के लिए ट्राइपार्टाइट गोर्जेस कॉरपोरेशन, प्राइवेट पावर एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर बोर्ड और पाक-अधिकृत कश्मीर के प्राधिकरणों के बीच एक त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।

परियोजना के बारे में

यह परियोजना झेलम नदी पर निर्मित की जायेगी। इसका उद्देश्य पाकिस्तान को 5 बिलियन यूनिट स्वच्छ हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर प्रदान करना है। यह परियोजना स्वच्छ ऊर्जा के लिए जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क सम्मेलन से कार्बन क्रेडिट अर्जित करेगी।

भारत का रुख

भारत ने पहले गिलगित-बाल्टिस्तान में बांध बनाने की पाकिस्तान की योजना का विरोध किया था। साथ ही, भारत का कहना है कि पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले क्षेत्रों में परियोजनाएं उचित नहीं हैं।

झेलम नदी

झेलम पंजाब की पांच नदियों में से सबसे पश्चिमी नदी है। यह सिंधु की एक सहायक नदी है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , ,

Advertisement