Coal India

भारत कोल एक्सचेंज की स्थापना करेगा

भारत जल्द ही कोल एक्सचेंज ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म की स्थापना करेगा। भारत कोल एक्सचेंज प्लेटफॉर्म स्थापित करने के प्रस्ताव के अनुसार, देश में खनन किए गए पूरे कोयले का व्यापार “कोल एक्सचेंज” नामक एक सामान्य प्लेटफॉर्म किया जायेगा।

कोल एक्सचेंज क्यों महत्वपूर्ण है?

ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म को स्थापित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह कोयला क्षेत्र में कई खरीदारों और विक्रेताओं के लिए मार्ग प्रशस्त करेगा। उल्लेखनीय है कि कोयला मंत्रालय 11 जून, 2020 को वाणिज्यिक कोयला खनन के लिए नीलामी शुरू करेगा।

पृष्ठभूमि

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की थी कि कोयला क्षेत्र में सरकार का एकाधिकार पूरी तरह से हटा दिया जाएगा। यह भारत में कोयले का उत्पादन बढ़ाने और आयातित कोयले की निर्भरता को कम करने के लिए किया जा रहा है। विश्व में तीसरा सबसे बड़ा कोयला भंडार रखने वाला भारत अभी भी कोयला आयात कर रहा है।

कोल एक्सचेंज

हालांकि भारत प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से बाजार तक पहुंच के लिए कोयला क्षेत्र को खोल रहा है, लेकिन कोयला क्षेत्र में कोल इंडिया प्रमुख भागीदार रहेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

प्रमोद अग्रवाल को कोल इंडिया लिमिटेड का चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर नियुक्त किया गया

प्रमोद अग्रवाल ने हाल ही में कोल इंडिया लिमिटेड के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर का कार्यभार ग्रहण किया। वे मध्य प्रदेश कैडर के 1991 बैच के आईएएस अफसर हैं। इससे पहले वे मध्य प्रदेश के शहरी विकास व आवास विभाग के प्रधान सचिव थे। उन्होंने ए.के. झा का स्थान लिया है, वे 31 जनवरी, 2020 को सेवानिवृत्त हुए थे।

प्रमोद अग्रवाल

प्रमोद अग्रवाल वर्तमान में मध्य प्रदेश में शहरी विकास तथा आवास विभाग के प्रधान सचिव हैं। प्रमोद कुमार अग्रवाल 1991 बैच के मध्य प्रदेश कैडर के आईएएस अफसर हैं। गौरतलब है कि प्रमोद अगरवाल कोल इंडिया के 28वें प्रमुख होंगे।

अनिल कुमार झा

इस नियुक्ति से पहले, अनिल कुमार झा सीआईएल की सहायक कंपनी महानदी कोलफील्ड्स के सीएमडी थे। वे इंडियन स्कूल ऑफ माइन्स, धनबाद, झारखंड से खान योजना तथा डिजाइन (Mine Planning & Design) में एमटेक है। उनके पास योजना, उत्पादन, प्रबंधन पर्यवेक्षण, दिशा और भूमिगत नियंत्रण के साथ-साथ खुली कास्ट कोयला खानों के नियंत्रण में 32 वर्षों तक का समृद्ध कार्य अनुभव है। उन्होंने सेंट्रल माइन प्लानिंग एंड डिज़ाइन इंस्टीट्यूट, सीआईएल की अन्वेषण शाखा के साथ 14 वर्षों तक काम किया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement