Defence Manufacturing in India

रक्षा उत्पादन को बढ़ाने के लिए तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश रक्षा में भूमि अधिग्रहण किया गया

23 मार्च, 2020 को रक्षा मंत्रालय ने संसद में घोषणा की कि उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु की राज्य सरकारों से भूमि का अधिग्रहण कर लिया गया है। चूंकि भूमि राज्य का विषय है, इसलिए विकास परियोजनाओं के लिए केंद्र के लिए राज्य सरकार से भूमि का अधिग्रहण करना महत्वपूर्ण है।

मुख्य बिंदु

भारत सरकार ने अगले पांच वर्षों में रक्षा निर्यात को 5 बिलियन अमरीकी डालर तक बढ़ाने की योजना बनाई है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए केंद्र सरकार अपने निवेश के अवसरों का विस्तार कर रही है। रक्षा उत्पादन के लिए तमिलनाडु में 1,182 हेक्टेयर और उत्तर प्रदेश में 1,537 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया गया है।

रक्षा विनिर्माण में नीतिगत पहलें

रक्षा क्षेत्र में विनिर्माण को बढ़ाने के लिए भारत सरकार ने कई पहलें शुरू की हैं। कुछ प्रमुख पहलें इस प्रकार हैं:

“रणनीतिक साझेदारी” मॉडल प्रस्तुत किया गया है, इसके तहत निर्माता कंपनी को भारतीय संस्थाओं के साथ साझेदारी करनी होगी और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के माध्यम से विनिर्माण इकाइयाँ स्थापित करनी होंगी।

रक्षा क्षेत्र के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश नीति को संशोधित किया गया है, अब सरकारी मार्ग के माध्यम से 100% निवेश की अनुमति है।

निवेश से संबंधित मुद्दों और इसके संबंधित नियामक उपायों के लिए डिफेंस इन्वेस्टर सेल का निर्माण किया गया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

DefExpo 2020 : उत्तर प्रदेश सरकार करेगी 23 ज्ञापन समझौतों पर हस्ताक्षर, राज्य में होगा 3 लाख नौकरियों का सृजन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लखनऊ में DefExpo 2020 का उद्घाटन किया गया। इस इवेंट के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार 23 ज्ञापन समझौतों पर हस्ताक्षर करेगी। इन समझौतों से राज्य में 50,000 करोड़ रुपये का निवेश आएगा, इससे राज्य में तीन लाख नौकरी के अवसर प्राप्त होंगे।

DefExpo का उद्देश्य भारत को स्टार्टअप इंडिया, स्किल इंडिया और मेक इन इंडिया जैसी पहलों के द्वारा टेक्नोलॉजी का पॉवर हाउस बनाना है।

भारत में रक्षा उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने कई कदम उठाये हैं। सरकार ने प्रत्यक्ष मार्ग के द्वारा प्रत्यक्ष विदेश निवेश को 49% किया है, जबकि सरकारी मार्ग के द्वारा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश सीमा को 100%  कर दिया गया है।

DefExpo India – 2020

इस चार दिवसीय इवेंट में भारतीय रक्षा उद्योग को अपनी क्षमता प्रदर्शित करने का मौका मिलेगा, इससे निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा। DefExpo India – 2020 की थीम “भारत – रक्षा विनिर्माण का उभरता हुआ हब” है। इस प्रदर्शनी का फोकस रक्षा क्षेत्र का डिजिटल परिवर्तन है। इस प्रदर्शनी में उत्तर प्रदेश को रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए उपयुक्त स्थान के रूप में प्रस्तुत किया जायेगा। इस DefExpo के द्वारा विदेशी उपकरण निर्माताओं को भारतीय रक्षा उद्योग के साथ मिलकर कार्य करने का मौका मिलेगा, इससे मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement