FDI

2017-18 में मॉरिशस, भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का सबसे बड़ा स्त्रोत रहा : भारतीय रिज़र्व बैंक

भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी डाटा के अनुसार 2017-18 में मॉरिशस भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) का सबसे बड़ा स्त्रोत रहा। इस सूची में सिंगापुर दूसरे स्थान पर है। वित्त वर्ष 2018 में प्रत्यक्ष विदेश निवेश 37.36 अरब डॉलर है, जबकि वित्त वर्ष 2017-18 में यह 36.31 अरब डॉलर था।

मुख्य बिंदु

2017-18 में मॉरिशस से भारत में 13.41 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आया, जबकि इससे पिछले वर्ष यह 13.38 अरब डॉलर था। सिंगापुर से 2016-17 में भारत में 6.52 अरब डॉलर का प्रत्येक्ष विदेशी निवेशी आया, जबकि 2017-18 में यह बढ़कर 9.27 अरब डॉलर हो गया। विनिर्माण क्षेत्र में FDI में कमी आई है, यह 11.97 अरब डॉलर से कम होकर 7.06 अरब डॉलर पर पहुँच गयी है। दूरसंचार सेवा क्षेत्र में FDI 5.8 अरब डॉलर से बढ़कर 2017-18 में 8.8 अरब डॉलर हो गयी है। खुदरा व थोक व्यापार में FDI 2.77 अरब डॉलर से बढ़कर 4.47 अरब डॉलर हो गयी है। वित्तीय सेवा क्षेत्र में FDI 3.73 अरब डॉलर से बढ़कर 4.07 अरब डॉलर हो गयी है। इन उपरोक्त क्षेत्र में ही 50% FDI का निवेश किया गया है। विदेशी निवेशकों ने ऑनलाइन मार्केट और वित्तीय सेवाओं में काफी रुचि दिखाई है।

 

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

FDI Confidence Index 2018: तीन रैंक नीचे फिसला भारत

FDI Confidence Index 2018 में भारत तीन रैंक नीचे फिसल गया। कंसल्टेंसी फर्म AT Kearney के अनुसार प्रत्यक्ष विदेश निवेश में विश्वास में भारत 11वें स्थान पर है। 2015 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि भारत शीर्ष 10 देशों की सूची से बाहर है।

मुख्य बिंदु

भारत के अलावा चीन और सिंगापुर की रैंकिंग में भी गिरावट आई है, इस सूची में चीन पांचवे जबकि सिंगापुर 12वीं स्थान पर है। इस सूची में ऑस्ट्रेलिया को आठवां स्थान जबकि न्यूजीलैंड को 16वां संस्थान प्राप्त हुआ। 20 17 में भारत इस सूची में 8वीं स्थान पर था, जबकि 2016 में नौवें स्थान पर काबिज़ था।

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में निवेशकों द्वारा कम रुचि के प्रमुख कारण सामान्यतः सरकार की आर्थिक नीतियां होती है। भारत में विमुद्रीकरण और GST इसके प्रमुख कारण रहे। हालांकि दीर्घकाल में भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में अधिक परिवर्तन नहीं आने की सम्भावना है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Month:

Tags: , , ,

Advertisement