ficci

संगीता रेड्डी बनीं फिक्की की अध्यक्ष

अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप की जॉइंट मैनेजिंग डायरेक्टर संगीता रेड्डी फिक्की की अध्यक्ष बन गयी हैं। उन्होंने संदीप सोमानी का स्थान लिया है। स्टार और डिज्नी इंडिया के चेयरमैन उदय शंकर को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। जबकि हिंदुस्तान यूनिलीवर के सीएमडी संजीव मेहता को फिक्की का अध्यक्ष चुना गया है।

Federation of Indian Chambers of Commerce and Industry (FICCI)

FICCI भारत का सबसे बड़ा और सबसे पुराना व्यापारिक संगठन है, यह गैर-सरकारी व गैर लाभकारी संगठन है। इसकी स्थापना 1927 में घनश्याम दास बिरला ने की थी, इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसका उद्देश्य भारतीय उद्योग की कुशलता और प्रतिस्पर्धा में वृद्धि करना है। इसके अतिरिक्त यह घरेलु व विदेशी मार्किट में व्यापारिक अवसरों के विस्तार करने के कार्य करता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , ,

JSPL ने महिला सशक्तिकरण के लिए जीता FICCI CSR अवार्ड

जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड को हाल ही महिला सशक्तिकरण के लिए FICCI CSR अवार्ड से सम्मानित किया गया। JSPL को यह पुरस्कार महिला सशक्तिकरण के लिए प्रभावशाली व नवोन्मेषी कार्यक्रमों के लिए दिया गया है, यह कार्य JSPL फाउंडेशन द्वारा देश भर में किया गया है।

FICCI CSR अवार्ड

FICCI CSR अवार्ड भारत के पहले कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी अवार्ड थे, इनकी स्थापना FICCI द्वारा 1999 में की गयी थी। FICCI CSR अवार्ड का उद्देश्य कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी में कंपनियों के योगदान के लिए उन्हें सम्मानित करना है।

FICCI CSR अवार्ड की श्रेणियां

  • महिला सशक्तिकरण के लिए FICCI CSR अवार्ड
  • शिक्षा, कौशल विकास तथा आजीविका के लिए FICCI CSR अवार्ड
  • पर्यावरण की धारणीयता के लिए FICCI CSR अवार्ड
  • स्वास्थ्य, जल तथा स्वच्छता के लिए FICCI CSR अवार्ड
  • उत्कृष्ठ नवोन्मेष के लिए FICCI CSR अवार्ड
  • 200 करोड़ रुपये तक के टर्नओवर वाली कंपनियों के लिए लघु व मध्यम उद्योग में FICCI CSR अवार्ड

कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (CSR)

कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी नामक पहल की शुरुआत पर्यावरण तथा सामाजिक कल्याण कार्यों में कंपनियों के स्वेच्छिक योगदान के लिए की गयी थी। इसका मुख्य सिद्धांत यह है कि कंपनियां समाज से ही आय प्राप्त करती हैं अतः उन्हें भी समाज के लिए कुछ योगदान देना चाहिए।

कंपनी अधिनियम, 2013 के सेक्शन 135 में CSR की व्यवस्था की गयी है। मौजूदा नियम के तहत CSR के बारे में निर्णय लेने की शक्ति कंपनी के बोर्ड को दी गयी है। इस नियम के अनुसार 500 करोड़ रुपये शुद्ध मूल्य अथवा 1000 करोड़ रुपये से अधिक टर्नओवर अथवा 5 करोड़ से अधिक शुद्ध लाभ करने वाली कंपनी को पिछले तीन वर्षों के शुद्ध लाभ के औसत का 2% CSR सम्बन्धी कार्यों के लिए खर्च करना पड़ता है। CSR गतिविधियों का वर्णन सातवीं अनुसूची में है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement