G7

G7 शिखर सम्मेलन स्थगित; जी10 या जी11 तक विस्तारित किया जा सकता है

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हाल ही में घोषणा की कि अमेरिका सितंबर 2020 तक जी7 शिखर सम्मेलन को स्थगित कर रहा है। इसके अलावा, राष्ट्रपति ट्रम्प जी7 समूह को जी10 या जी11 तक विस्तारित करने पर विचार कर रहे हैं।  2 जून, 2020 को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने टेलिफोनिक बातचीत के माध्यम से जी7 शिखर सम्मेलन के लिए भारतीय पीएम मोदी को आमंत्रित किया। दोनों नेताओं ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत-चीन के हालिया स्टैंड ऑफ पर चर्चा की

मुख्य बिंदु

जी-7 सात देशों अर्थात् फ्रांस, कनाडा, जर्मनी, जापान, अमेरिका और ब्रिटेन का एक समूह है। समूह का एक निश्चित मुख्यालय या एक औपचारिक संविधान नहीं है। शिखर सम्मेलन में जो निर्णय लिया जाता है, वह गैर-बाध्यकारी होता है। राष्ट्रपति ट्रम्प तीन अन्य राष्ट्रों ऑस्ट्रेलिया, रूस, भारत और दक्षिण कोरिया को शामिल करके G7 समूह का विस्तार करना चाहते हैं।

G7

G7 एक अंतर सरकारी संगठन है जिसका गठन 1975 में हुआ था। इसका गठन विश्व की शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं द्वारा विश्व के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एक अनौपचारिक मंच के रूप में किया गया था। कनाडा 1976 में जी7 में शामिल हुआ और यूरोपीय संघ 1977 से जी7 की बैठक में भाग लेने लगा।

1997 में रूस G7 में शामिल हुआ। शुरू में G7 को G8 कहा जाता था। 2014 में, रूस को निष्कासित कर दिया गया था क्योंकि उसने यूक्रेन के क्रीमिया क्षेत्र को अपने क्षेत्र में शामिल कर लिया था।

जी7 बनाम जी20

G20 एक बड़ा समूह है और इसमें G7 के सभी सदस्य शामिल हैं। भारत G20 का सदस्य है। G20 का गठन 1999 में वैश्विक आर्थिक चिंताओं को दूर करने के लिए और अधिक देशों को लाने के लिए एक प्रतिक्रिया के रूप में किया गया था। जी20 में 80% वैश्विक अर्थव्यवस्था शामिल है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , ,

अमेरिका आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर G7 की साझेदारी में शामिल हुआ

विश्व के सात सबसे धनी देशों के समूह के नेताओं ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर ग्लोबल पार्टनरशिप की स्थापना की।

मुख्य बिंदु

अमेरिका शुरू में इस साझेदारी का हिस्सा नहीं था। हालाँकि, अब संयुक्त राष्ट्र में निगरानी और फेशियल रिकग्निशन पर अंतरराष्ट्रीय मानकों को आकार देने में चीनी प्रभुत्व का मुकाबला करने के लिए अमेरिका इस समूह में शामिल हो रहा है।  आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर एक वैश्विक समूह शुरू करने की पहल फ्रांस और कनाडा द्वारा शुरू की गई थी।

अमेरिका की स्थिति

अमेरिका ने शुरू में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  पर G7 साझेदारी पर आपत्ति जताते हुए दावा किया था कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  के नियमन पर बहुत अधिक ध्यान देने से नवाचार में बाधा आएगी। अमेरिका के लिए साझेदारी में शामिल होना महत्वपूर्ण है क्योंकि गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और एप्पल जैसे कई तकनीकी कंपनियां  हैं जो अमेरिका के सकल घरेलू उत्पाद में महत्वपूर्ण राशि का योगदान करते हैं। साथ ही, अंतरराष्ट्रीय मानकों का सेट इन कंपनियों को बहुत प्रभावित करेगा। इसलिए, अमेरिका के लिए साझेदारी में शामिल होना महत्वपूर्ण है।

G-7

G-7 अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, कनाडा, जापान और जर्मनी का समूह है, यह IMF के अनुसार विश्व की सबसे एडवांस्ड अर्थव्यवस्थाएं हैं। यह वैश्विक नेट वर्थ के 58% हिस्से का प्रतिनिधित्व करते हैं। G-7 देश वैश्विक सकल घरेलु उत्पाद के 46% का प्रतिनिधित्व करते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement