Geographical Indication

ओडिशा की कंधामल हल्दी को मिला GI टैग

ओडिशा की कंधामल हल्दी को विशिष्ट भौगोलिक पहचान के लिए GI टैग प्रदान किया गया। इसके पंजीकरण के लिए कंधामल एपेक्स स्पाइसेज़ एसोसिएशन फॉर मार्केटिंग द्वारा प्रयास किया गया, इसके पंजीकरण आवेदन को वस्तु भौगोलिक संकेत (पंजीकरण व सुरक्षा) अधिनियम, 1999 के सेक्शन 13 के सब-सेक्शन (1) के तहत स्वीकृत किया गया है।

कंधामल हल्दी स्वास्थ्य के लिए काफी उपयोगी मानी जाती है। यह कंधामल के जनजातीय लोगों की प्रमुख नकदी फसल है। घरेलु के अलावा इस हल्दी का उपयोग सौन्दर्य उत्पादों तथा औषधीय कार्यों के लिए भी किया जाता है।

विशिष्ट भौगोलिक संकेत (Geographical Indication)

GI टैग अथवा पहचान उस वस्तु अथवा उत्पाद को दिया जाता है जो कि विशिष्ट क्षेत्र का प्रतिनिधत्व करती है, अथवा किसी विशिष्ट स्थान पर ही पायी जाती है अथवा वह उसका मूल स्थान हो। GI टैग कृषि उत्पादों, प्राकृतिक वस्तुओं तथा निर्मित वस्तुओं उनकी विशिष्ट गुणवत्ता के लिए दिया जाता है। यह GI पंजीकरण 10 वर्ष के लिए वैध होता है, बाद में इसे रीन्यू करवाना पड़ता है। कुछ महत्वपूण GI टैग प्राप्त उत्पाद दार्जीलिंग चाय, तिरुपति लड्डू, कांगड़ा पेंटिंग, नागपुर संतरा तथा कश्मीर पश्मीना इत्यादि हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Month:

Tags: , , , , , ,

कॉफ़ी की किस्मों को GT टैग प्रदान किये गये

भौगोलिक संकेत (GI) रजिस्ट्री ने कॉफ़ी की विभिन्न किस्मों जैसे कुर्ग अरेबिका कॉफ़ी, वायानद रोबस्टा कॉफ़ी, चिकमंगलूर अरेबिका कॉफ़ी, अराकू वैली अरेबिका कॉफ़ी तथा बाबाबुदनगिरी अरेबिका कॉफ़ी को GI टैग प्रदान किये गये।

कुर्ग अरेबिका कॉफ़ी

कर्नाटक का कोडागु जिला कुर्ग अरेबिका कॉफ़ी की कृषि के लिए प्रसिद्ध है। इस कॉफ़ी की सुगंध व स्वाद काफी अलग होता है।

वायानद रोबस्टा कॉफ़ी

वायानद में केरल की 90% कॉफ़ी का उत्पादन किया जाता है। यह केरल की अर्थव्यवस्था का अति महत्वपूर्ण हिस्सा है।

चिकमंगलूर अरेबिका कॉफ़ी

इस कॉफ़ी का उत्पादन कर्नाटक के चिकमंगलूर जिले में किया जाता है। इस क्षेत्र में भारत में सबसे पहले कॉफ़ी उत्पादन शुरू हुआ।

अराकू वैली अरेबिका कॉफ़ी

इस कॉफ़ी का उत्पादन आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम तथा ओडिशा के कोरापुट जिले में किया जाता है।

बाबाबुदनगिरी अरेबिका कॉफ़ी

बाबाबुदनगिरी अरेबिका कॉफ़ी का उत्पादन कर्नाटक के बाबाबुदनगिरी क्षेत्र में किया जाता है।

विशिष्ट भौगोलिक संकेत (Geographical Indication)

GI टैग अथवा पहचान उस वस्तु अथवा उत्पाद को दिया जाता है जो कि विशिष्ट क्षेत्र का प्रतिनिधत्व करती है, अथवा किसी विशिष्ट स्थान पर ही पायी जाती है अथवा वह उसका मूल स्थान हो। GI टैग कृषि उत्पादों, प्राकृतिक वस्तुओं तथा निर्मित वस्तुओं उनकी विशिष्ट गुणवत्ता के लिए दिया जाता है। यह GI पंजीकरण 10 वर्ष के लिए वैध होता है, बाद में इसे रीन्यू करवाना पड़ता है। कुछ महत्वपूण GI टैग प्राप्त उत्पाद दार्जीलिंग चाय, तिरुपति लड्डू, कांगड़ा पेंटिंग, नागपुर संतरा तथा कश्मीर पश्मीना इत्यादि हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement