india-japan relations

भारत और जापान के बीच समुद्री वार्ता के पांचवें दौर का आयोजन किया गया

26 दिसम्बर, 2019 को भारत और जापान के बीच समुद्री मामलों की वार्ता के पांचवें दौर का आयोजन टोक्यो में किया गया। इस वार्ता के दौरान दोनों देशों ने समुद्री सहयोग को और मज़बूत करने पर सहमती प्रकट की।

भारत-जापान रक्षा सम्बन्ध

  • भारत-जापान समुद्री वार्ता के पहले दौर का आयोजन नई दिल्ली में 2013 में किया गया था।
  • भारत और जापान JIMEX (Japan-India Maritime Exercise) नामक वार्षिक अभ्यास में हिस्सा लेते हैं।
  • भारत और जापान के बीच 2+2 रक्षा वार्ता का आयोजन किया जाता है।

महत्व

भारत और जापान के लिए समुद्री सुरक्षा का महत्व अत्याधिक है, आर्थिक दृष्टि से दोनों देश समुद्री व्यापार पर निर्भर है। इसलिए समुद्री व्यापार की सुरक्षा के लिए मिलकर कार्य करना आवश्यक है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

भारत और जापान ने तुरगा पनबिजली परियोजना के लिए ऋण समझौते पर किये हस्ताक्षर

भारत और जापान ने हाल ही में तुरगा पनबिजली परियोजना के लिए 1817 करोड़ रुपये के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किये। इस ऋण राशि का उपयोग तुरगा पंपडस्टोरेज (I) पनबिजली परियोजना के लिए किया जायेगा। इस परियोजना के पूरा के होने के बाद पश्चिम बंगाल के औद्योगिक विकास तथा जीवन-यापन स्तर में सुधार होगा।

मुख्य बिंदु

इस ऋण समझौते पर भारत सरकार की ओर से केन्द्रीय वित्त मंत्रालय तथा जापान की ओर से जापान अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एजेंसी (JICA) के मुख्य प्रतिनिधि कात्सुओ मात्सुमोतो ने हस्ताक्षर किये। इस परियोजना का उद्देश्य विद्युत् मांग को पूरा करना है। इस परियोजना से औद्योगिक गतिविधियों में तेज़ी आएगी।

पृष्ठभूमि

भारत और जापान के बीच 1958 से द्विपक्षीय सम्बन्ध फलीभूत हुए हैं। पिछले कुछ वर्षों में दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग में काफी वृद्धि हुई है। इससे दोनों देशों के सामरिक तथा ग्लोबल पार्टनरशिप भी सुदृढ़ हुई है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement