isro

ISRO अगस्त 2020 में ब्राजील के अमेजोनिया -1 उपग्रह को लॉन्च करेगा

ब्राजील द्वारा विकसित किया गया पहला पृथ्वी अवलोकन उपग्रह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा लॉन्च किया जाएगा। इस उपग्रह को ‘अमेजोनिया -1’ के नाम से जाना जाता है। इसरो द्वारा अभी तक अमेजोनिया-1 की सटीक लॉन्च तिथि की पुष्टि नहीं की गई है, लेकिन मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, लॉन्च अगले महीने (अगस्त 2020) में होगा।

पृष्ठभूमि

25 जनवरी, 2004 को भारत और ब्राजील के बीच बाह्य अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। फ्रेमवर्क समझौते के एक भाग के रूप में, इसरो ब्राजील की अंतरिक्ष एजेंसी (AEB) का एक माइक्रो-उपग्रह लॉन्च करेगा। यह माइक्रोसेटेलाइट वायुमंडलीय अध्ययन के लिए होगा।

अमेजोनिया-1

अमेजोनिया-1 को मूल रूप से AEB के मुख्य उपग्रह प्रक्षेपण वाहन VLS-1 द्वारा 2018 में लॉन्च किया जाना था। लेकिन तकनीकी कारणों से VLS-1 के साथ लॉन्च रद्द कर दिया गया था। अमेजोनिया-1 को अब आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से PSLV के पेलोड के रूप में लॉन्च किया जाएगा।

अमेजोनिया-1 का संचालन चीन-ब्राजील अर्थ रिसोर्स सैटेलाइट प्रोग्राम (CBERS) के साथ होगा। चीन और ब्राजील के बीच CBERS कार्यक्रम के तहत, 6 उपग्रहों को आज तक लॉन्च किया गया है (पहला उपग्रह CBERS-1 अक्टूबर 1999 में लॉन्च किया गया था)।

अमेजोनिया-1 पहला उपग्रह है जिसे AEB द्वारा पूरी तरह से डिजाइन, एकीकृत और परीक्षण किया गया है, लॉन्च के बाद यह उपग्रह ब्राजील द्वारा पूरी तरह से संचालित किया जाने वाला पहला उपग्रह होगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

मंगलयान ने मंगल ग्रह के सबसे बड़े प्राकृतिक उपग्रह ‘फोबोस’ के चित्र लिए

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के मंगलयान मिशन (मार्स ऑर्बिटर मिशन के रूप में जाना जाता है) ने  फोबोस (मंगल ग्रह का सबसे बड़ा चंद्रमा या प्राकृतिक उपग्रह) के चित्र लिए हैं। इसरो द्वारा 3 जुलाई, 2020 को यह चित्र  साझा किया गया।

फोबोस की छवि मंगल ग्रह ऑर्बिटर मिशन द्वारा 4200 किलोमीटर की दूरी से ली गयी थी। उस समय, मार्स ऑर्बिटर मिशन मंगल से 7200 किलोमीटर की दूरी पर था।

स्टिकनी क्रेटर

स्टिकनी क्रेटर फोबोस पर सबसे बड़ा गड्ढा है। मार्स ऑर्बिटर मिशन द्वारा लिए गये चित्र में स्टिकनी क्रेटर, रोश, श्लोकोव्स्की और ग्रिलड्रिग क्रेटर्स दिखाई दे रहे हैं।

मार्स ऑर्बिटर मिशन

मंगलयान मिशन को 5 नवम्बर, 2013 को आंध्र प्रदेश में  सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के पहले लांच पैड से लांच किया गया था।

इस मिशन को रॉकेट PSLV-C25 द्वारा लॉन्च किया गया था। इसने 24 सितंबर, 2014मंगल ग्रह की कक्षा में पहले ही प्रयास में सफलतापूर्वक प्रवेश किया था।

मंगल ग्रह के प्राकृतिक उपग्रह

फोबोस और डीमोस, मंगल के दो प्राकृतिक उपग्रह हैं। मंगल के दोनों चंद्रमाओं की खोज आसफ हॉल ने वर्ष 1877 में की थी। फोबोस डेमोस से सात गुना बड़ा है।

फोबोस मंगल की सतह से लगभग 6,000 किलोमीटर की दूरी पर परिक्रमा करता है, जबकि डिमोस मंगल से लगभग 23,460 किलोमीटर की दूरी पर परिक्रमा करता है। इसलिए, फोबोस को मंगल के अंतरतम प्राकृतिक उपग्रह के रूप में जाना जाता है, जबकि डीमोस सबसे बाहरी है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement