Ladakh

झारखण्ड ने सीमा सड़क संगठन में 11,800 श्रमिकों की भर्ती को मंज़ूरी दी

सीमावर्ती क्षेत्रों के पास की सड़कें वर्तमान स्थिति में बहुत महत्वपूर्ण हैं वर्तमान समय में भारतीय और चीनी सेनाएं पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में एक दूसरे का सामना कर रही हैं।

मुख्य बिंदु

अत्यधिक तनावपूर्ण स्थिति में, झारखंड के मुख्यमंत्री ने सीमा सड़क संगठन को चीन की सीमा में महत्वपूर्ण परियोजनाओं को लागू करने के लिए राज्य से 11,800 श्रमिकों की भर्ती करने की मंजूरी दी है।

समझौता ज्ञापन

झारखंड राज्य बीआरओ के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करेगा ताकि भर्ती होने वाले श्रमिकों का कल्याण सुनिश्चित हो सके। यह समझौता ज्ञापन प्रधानमंत्री कार्यालय और झारखंड राज्य श्रम विभाग द्वारा तैयार किया गया है।

भर्ती

भर्ती किए गए कर्मचारियों को लद्दाख में ऑपरेशन विजयक, जम्मू-कश्मीर में प्रोजेक्ट बीकॉन, हिमाचल प्रदेश में प्रोजेक्ट दीपक और उत्तराखंड में प्रोजेक्ट शिवालिक में नियुक्त किया जायेगा।

कानून

बीआरओ वर्तमान में “मेट्स-स्थानीय नेटवर्क संपर्क बिंदु” के तहत लद्दाख, लेह और हिमाचल प्रदेश में श्रमिकों को लाता है। ऐसा हर साल दो बार किया जा रहा है। एक बार अप्रैल-मई में और अक्टूबर-नवंबर में।

वर्तमान में, बीआरओ को अंतर-राज्य प्रवासी कामगार अधिनियम, 1979 के तहत झारखंड से श्रमिकों की भर्ती करने की अनुमति दी गई है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

केन्द्रीय जनजातीय मामले मंत्रालय ने लद्दाख को 6वीं अनुसूची क्षेत्र घोषित करने के लिए प्रस्ताव गृह मंत्रालय को भेजा

केन्द्रीय जनजातीय मामले मंत्रालय ने लद्दाख को 6वीं अनुसूची क्षेत्र घोषित करने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया है। केन्द्रीय जनजातीय मामले मंत्री अर्जुन मुंडा ने हाल ही में घोषणा की कि लद्दाख को 6वीं अनुसूची क्षेत्र में शामिल करने के लिए केन्द्रीय गृह मंत्रालय को प्रस्ताव भेजा गया है।

6वीं अनुसूची में शामिल क्षेत्रों में स्व-शासन पर बल दिया जाता है तथा जनजातीय समुदायों को काफी स्वायत्तता भी दी जाती है। जनजातीय समुदाय अपने कानून स्वयं बना सकते हैं। इन क्षेत्रों को सामाजिक व अधोसंरचना विकास के लिए केंद्र सरकार से काफी फंड्स भी मिलते हैं। असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम 6वीं अनुसूची में शामिल हैं।

लद्दाख

लद्दाख भारत के सबसे नवीनतम केंद्र शासित प्रदेशों में से एक है। लद्दाख 31 अक्टूबर, 2019 को केंद्र शासित प्रदेश के रूप में अस्त्तिव में आया था। लद्दाख का क्षेत्रफल 59,146 वर्ग किलोमीटर है। इसका कुल जनसँख्या 2,74,289 है। केंद्र शासित प्रदेश के रूप में अस्तित्व में आने से पहले लद्दाख जम्मू-कश्मीर का हिस्सा हुआ था। गौरतलब है कि लद्दाख के लिए विधानसभा की व्यवस्था नहीं की  गयी है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement