MSME

लघु व सूक्ष्म उद्योगों को अब तक 70,000 करोड़ रुपये ऋण दिया गया : केंद्र

www.psbloanin59minutes.com पोर्टल को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 2018 में लांच किया था। 13 जनवरी, 2020 तक इस पोर्टल के माध्यम से लघु व सूक्ष्म उद्योगों को 70,000 करोड़ रूपए ऋण स्वरूप प्रदान किया जा चुका है। केंद्र सरकार द्वारा जारी डाटा के मुताबिक 2.73 लाख आवेदनों में से 2.19 आवेदनों को मंज़ूर किया गया है।

इस पोर्टल के माध्यम से सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योगों (MSME) को एक घंटे के भीतर ऋण की मंज़ूरी मिलती है। इसके लिए शाखा में जाने की आवश्यकता नहीं होती। इस पोर्टल के माध्यम से 5 करोड़ रुपये तक का ऋण प्राप्त किया जा सकता है। यह ऋण लघु उद्योग विकास बैंक (SIDBI) द्वारा प्रदान किया जाता है।

ऋण पोर्टल

इस पोर्टल की शुरुआत सिडबी में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ मिलकर की है। आमतौर पर इस प्रकार के लिए 20-25 दिन का समय लगता है, अब यह ऋण केवल 1 घंटे के भीतर प्राप्त किया जा सकता है। एक घंटे में ऋण को मंज़ूरी मिलने के बाद धनराशी 7-8 दिन में वितरित कर दी जाती है।

इस पोर्टल में ऋण के अप्रूवल के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग किया गया है। इस पोर्टल में ऋण की मंज़ूरी के लिए किसी मानवीय हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती। इस पोर्टल का प्लेटफार्म यूजर फ्रेंडली है तथा इसमें ऋण के लिए किसी भी प्रकार के दस्तावेज की आवश्यकता नहीं होती। इस पोर्टल के द्वारा MSME के आयकर रीटर्न, GST डाटा, बैंक स्टेटमेंट इत्यादि का विश्लेषण किया जाता है। इस डाटा के विश्लेषण के आधार पर योग्य MSME आवेदक के ऋण को मंज़ूरी दी जाती है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

रोज़गार सृजन के लिए खादी व ग्रामोद्योग आयोग की पहल

खादी व ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने रोज़गार सृजन के लिए गोवा सरकार के साथ मिलकर कार्य करने का निर्णय लिया है। गोवा में रोज़गार सृजन के लिए कई पहलें शुरू की गयी हैं। इससे पहले गोवा में कताई तथा बुनाई से सम्बंधित गतिविधियाँ काफी कम थी।

मुख्य बिंदु

  • 160 परिवारों में इलेक्ट्रिक पॉटर व्हील वितरित किये गये।
  • 50 प्रशिक्षित महिलाओं को नए मॉडल के स्पिन्निंग व्हील प्रदान किये गये।
  • एक लिज्जत पापड़ इकाई की स्थापना की गयी, इससे 700 लोगों को रोज़गार मिलेगा।

खादी व ग्रामोद्योग आयोग (KVIC)

KVIC, खादी और ग्रामोद्योग आयोग अधिनियम, 1956 के तहत गठित एक संवैधानिक निकाय है तथा यह सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय (MSME) के तहत एक शीर्ष संगठन है। यह ग्रामीण इलाकों में खादी और ग्रामोद्योगों के विकास के लिए कार्यक्रमों की योजना, प्रचार, आयोजन और कार्यान्वयन करता है। यह कच्चे माल के भंडार निर्मित, प्रबंधित करता है और उत्पादकों को उनकी आपूर्ति भी करता है। यह खादी उत्पादों की बिक्री और मार्केटिंग को भी बढ़ावा देता है। यह खादी उद्योग में उत्पादन तकनीकों और उपकरणों में अनुसंधान को प्रोत्साहन और बढ़ावा देता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement