PFRDA

ईएसआईसी सामाजिक सुरक्षा योजना में नामांकन में 821,000 की वृद्धि दर्ज की गयी

23 मई, 2020 को कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) का पेरोल डेटा जारी किया गया। इन आंकड़ों में कहा गया है कि लगभग 821,000 नए सदस्य ईएसआईसी सामाजिक सुरक्षा योजना में शामिल हुए हैं।

मुख्य बिदु

इस डाटा को राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) द्वारा जारी किया गया था। आंकड़ों के अनुसार 2018-19 में योजना के ग्राहक 14.9 मिलियन थे और मार्च 2020 में यह बढ़कर 38.3 मिलियन हो गए।

NSO रिपोर्ट कई सामाजिक सुरक्षा योजनाओं जैसे PFRDA, EPFO ​​का डाटा जारी करता है।

कर्मचारी राज्य बीमा कारपोरेशन (ESIC)

यह केन्द्रीय श्रम व रोज़गार मंत्रालय के अधीन एक स्वायत्त कारपोरेशन है। यह कर्मचारियों के बीमा का प्रबंधन करता है। इसकी स्थापना कर्मचारी राज्य बीमा अधिनियम, 1948 के तहत की गयी थी। इसकी स्थापना 24 फरवरी, 1951 को की गयी थी। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। ESIC में दक्षिण एशिया के लिए ISSA का सम्पर्क कार्यालय भी स्थित है। यह संपर्क कार्यालय भूटान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल तथा ईरान में ISSA के सदस्य संगठनों के साथ सामाजिक सुरक्षा के लिए समन्वय करता है।

योजना में हालिया बदलाव

जून, 2020 से भारत सरकार ने इस योजना के तहत योगदान की दर कम कर दी है। नियोक्ता का योगदान 4.75% से घटाकर 3.25% और कर्मचारी का योगदान 1.75% से घटाकर 0.75% कर दिया गया है। साथ ही, जो कर्मचारी 137 रुपये या उससे कम प्रति दिन कमा रहे हैं, उन्हें उनके योगदान के भुगतान से छूट दी गई है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

अटल पेंशन योजना के 5 साल पूरे हुए

9 मई, 2015 को लॉन्च की गई “अटल पेंशन योजना” ने अपने कार्यान्वयन के 5 साल पूरे कर लिए हैं। 9 मई, 2020 तक इस योजना के तहत कुल नामांकन 2,23,54,028 था।

मुख्य बिंदु

पहल शुरू होने के पहले दो वर्षों के दौरान 50 लाख सब्सक्राइबर थे। तीसरे वर्ष में 1 करोड़ ग्राहकों के साथ संख्या दोगुनी हो गई। चौथे वर्ष में 1.5 करोड़ नामांकन की उपलब्धि हासिल की गई।

योजना की विशेषताएं

18 से 40 वर्ष की आयु के किसी भी भारतीय नागरिक द्वारा इस योजना की सदस्यता ली जा सकती है। एनरोलमेंट होने पर, यह योजना 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर व्यक्ति को 1000 रुपये से 5000 रुपये की न्यूनतम गारंटिड पेंशन प्रदान करती है। इसके अलावा, जब पेंशनभोगी की मृत्यु हो जाती है, तो यह जीवनसाथी को जीवन भर के लिए पेंशन की गारंटी देता है। ग्राहक और पति या पत्नी दोनों की मृत्यु के मामले में, एक नामित व्यक्ति राशि का दावा कर सकता है।

योजना के बारे में

इस योजना को स्वावलंबन योजना से बदल दिया गया। यह असंगठित क्षेत्र को बुढ़ापे की आय सुरक्षा प्रदान करने के लिए स्थापित की गयी थी। इसे प्रधानमंत्री मोदी ने 2015 में कोलकाता में लॉन्च किया था। यह योजना वित्त मंत्रालय के तहत संचालित PFRDA (पेंशन फंड नियामक और विकास प्राधिकरण) द्वारा कार्यान्वित की जा रही है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement