Quick Reaction Surface-to-Air Missile

DRDO ने QRSAM का सफल परीक्षण किया

हाल ही में रक्षा अनुसन्धान और विकास संगठन ने QRSAM (Quick Reaction Surface-to-Air Missile) का सफल परीक्षण किया, परीक्षण के दौरान ओडिशा की चांदीपुर टेस्ट रेंज में मिसाइल ने उड़ान भरी। इस परीक्षण में हवाई लक्ष्य निर्धारित किये गये थे।

इस पूरे मिशन को विभिन्न इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम (EOTS), राडार सिस्टम तथा टेलीमेट्री सिस्टम के द्वारा रिकॉर्ड किया गया।

QRSAM (Quick Reaction Surface-to-Air Missile)

इस मिसाइल का विकास रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO) द्वारा किया गया है, इस मिसाइल का विकास भारतीय सेना के लिए किया गया है, इस मिसाइल के द्वारा बहुत ही कम समय में दुश्मन टारगेट को ट्रैक किया जा सकता है। इस मिसाइल में ठोस इंधन का उपयोग किया जाता है। इसकी रेंज 25-30 किलोमीटर है। इस मिसाइल को ट्रक पर तैनात किया जा सकता है। यह मिसाइल विभिन्न रेंज तथा उंचाई पर अपने लक्ष्य को ध्वस्त कर सकती है। QRSAM का पहला परीक्षण 4 जुलाई, 2017 को किया गया था, बाद में 26 फरवरी, 2019 को भी इस मिसाइल के दो परीक्षण किये गये थे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

DRDO ने QRSAM का सफल परीक्षण किया

हाल ही में रक्षा अनुसन्धान और विकास संगठन ने QRSAM (Quick Reaction Surface-to-Air Missile) का सफल परीक्षण किया, परीक्षण के दौरान ओडिशा की चांदीपुर टेस्ट रेंज में मिसाइल ने दो उड़ाने भरी। इस परीक्षण में हवाई लक्ष्य निर्धारित किये गये थे।

इस पूरे मिशन को विभिन्न इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम (EOTS), राडार सिस्टम तथा टेलीमेट्री सिस्टम के द्वारा रिकॉर्ड किया गया। परीक्षण के दौरान दोनों मिसाइलों ने अपनी क्षमता का परिचय दिया।

QRSAM (Quick Reaction Surface-to-Air Missile)

इस मिसाइल का विकास रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO) द्वारा किया गया है, इस मिसाइल का विकास भारतीय सेना के लिए किया गया है, इस मिसाइल के द्वारा बहुत ही कम समय में दुश्मन टारगेट को ट्रैक किया जा सकता है। इस मिसाइल में ठोस इंधन का उपयोग किया जाता है। इसकी रेंज 25-30 किलोमीटर है। इस मिसाइल को ट्रक पर तैनात किया जा सकता है। यह मिसाइल विभिन्न रेंज तथा उंचाई पर अपने लक्ष्य को ध्वस्त कर सकती है। QRSAM का पहला परीक्षण 4 जुलाई, 2017 को किया गया था, बाद में 26 फरवरी, 2019 को भी इस मिसाइल के दो परीक्षण किये गये थे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement