Raisina Dialogue 2020

नई दिल्ली में शुरू हुई रायसीना डायलॉग

नई दिल्ली में 14 जनवरी से 16 जनवरी, 2020 के दौरान रायसीना डायलॉग का आयोजन किया जा रहा है। इस बहुपक्षीय सम्मेलन का आयोजन नई दिल्ली में 2016 से किया जा रहा है। इसका आयोजन विदेश मंत्रालय तथा आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा मिलकर किया जाता है।

इस वर्ष कई देशों के विदेश मंत्री इस सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं, इसमें रूस, ईरान, मालदीव, मोरक्को, ऑस्ट्रेलिया, भूटान, डेनमार्क, चेक गणराज्य, उज्बेकिस्तान और एस्तोनिया के मंत्री शामिल होंगे। इस सम्मेलन की थीम ‘21@20: Navigating the Alpha Century’ है।

रायसीना डायलॉग

रायसीना डायलॉग की शुरुआत से यह भू-राजनीती पर भारत का फ्लैगशिप सम्मेलन है। 2016 में इस सम्मेलन का आयोजन ‘Asia: Regional and global connectivity’ थीम के साथ किया गया था, इसका उद्देश्य एशिया को विश्व के साथ जोड़ना था। 2017 में इस सम्मेलन का आयोजन ‘The New Normal: Multilateralism and Multipolarity’ थीम के आधार पर किया गया। वर्ष 2018 में इस सम्मेलन की थीम ‘Managing disruptive Transitions: Ideas, Institutions and Idioms’ जबकि 2019 में इसकी थीम ‘New Geometrics, Fluid Partnerships, Uncertain Outcomes’ थी।

इस सम्मेलन का नामक रायसीना पहाडियों के नाम पर रखा गया, रायसीना पहाड़ियों में राष्ट्रपति भवन स्थित है। इस वार्ता को शांग्री-ला वार्ता की तर्ज पर शुरू किया गया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

नई दिल्ली में किया जाएगा रायसीना डायलॉग का आयोजन

नई दिल्ली में 14 जनवरी से 16 जनवरी, 2020 के दौरान रायसीना डायलॉग का आयोजन किया जाएगा। इस बहुपक्षीय सम्मेलन का आयोजन नई दिल्ली में 2016 से किया जा रहा है। इसका आयोजन विदेश मंत्रालय तथा आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा मिलकर किया जाता है।

इस वर्ष कई देशों के विदेश मंत्री इस सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं, इसमें रूस, ईरान, मालदीव, मोरक्को, ऑस्ट्रेलिया, भूटान, डेनमार्क, चेक गणराज्य, उज्बेकिस्तान और एस्तोनिया के मंत्री शामिल होंगे। इस सम्मेलन की थीम ‘21@20: Navigating the Alpha Century’ है।

रायसीना डायलॉग

रायसीना डायलॉग की शुरुआत से यह भू-राजनीती पर भारत का फ्लैगशिप सम्मेलन है। 2016 में इस सम्मेलन का आयोजन ‘Asia: Regional and global connectivity’ थीम के साथ किया गया था, इसका उद्देश्य एशिया को विश्व के साथ जोड़ना था। 2017 में इस सम्मेलन का आयोजन ‘The New Normal: Multilateralism and Multipolarity’ थीम के आधार पर किया गया। वर्ष 2018 में इस सम्मेलन की थीम ‘Managing disruptive Transitions: Ideas, Institutions and Idioms’ जबकि 2019 में इसकी थीम ‘New Geometrics, Fluid Partnerships, Uncertain Outcomes’ थी।

इस सम्मेलन का नामक रायसीना पहाडियों के नाम पर रखा गया, रायसीना पहाड़ियों में राष्ट्रपति भवन स्थित है। इस वार्ता को शांग्री-ला वार्ता की तर्ज पर शुरू किया गया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement