SIDBI

लघु व सूक्ष्म उद्योगों को अब तक 70,000 करोड़ रुपये ऋण दिया गया : केंद्र

www.psbloanin59minutes.com पोर्टल को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 2018 में लांच किया था। 13 जनवरी, 2020 तक इस पोर्टल के माध्यम से लघु व सूक्ष्म उद्योगों को 70,000 करोड़ रूपए ऋण स्वरूप प्रदान किया जा चुका है। केंद्र सरकार द्वारा जारी डाटा के मुताबिक 2.73 लाख आवेदनों में से 2.19 आवेदनों को मंज़ूर किया गया है।

इस पोर्टल के माध्यम से सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योगों (MSME) को एक घंटे के भीतर ऋण की मंज़ूरी मिलती है। इसके लिए शाखा में जाने की आवश्यकता नहीं होती। इस पोर्टल के माध्यम से 5 करोड़ रुपये तक का ऋण प्राप्त किया जा सकता है। यह ऋण लघु उद्योग विकास बैंक (SIDBI) द्वारा प्रदान किया जाता है।

ऋण पोर्टल

इस पोर्टल की शुरुआत सिडबी में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ मिलकर की है। आमतौर पर इस प्रकार के लिए 20-25 दिन का समय लगता है, अब यह ऋण केवल 1 घंटे के भीतर प्राप्त किया जा सकता है। एक घंटे में ऋण को मंज़ूरी मिलने के बाद धनराशी 7-8 दिन में वितरित कर दी जाती है।

इस पोर्टल में ऋण के अप्रूवल के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग किया गया है। इस पोर्टल में ऋण की मंज़ूरी के लिए किसी मानवीय हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती। इस पोर्टल का प्लेटफार्म यूजर फ्रेंडली है तथा इसमें ऋण के लिए किसी भी प्रकार के दस्तावेज की आवश्यकता नहीं होती। इस पोर्टल के द्वारा MSME के आयकर रीटर्न, GST डाटा, बैंक स्टेटमेंट इत्यादि का विश्लेषण किया जाता है। इस डाटा के विश्लेषण के आधार पर योग्य MSME आवेदक के ऋण को मंज़ूरी दी जाती है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

MSME, स्टार्टअप्स तथा महिला उद्यमियों के विकास के लिए गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस ने SIDBI के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये 

गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस ने सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योग, स्टार्टअप्स तथा महिला उद्यमियों के विकास के लिए हाल ही में सिडबी (Small Industries Development Bank of India : SIDBI) के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं। गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस तथा सिडबी एक निश्चित टाइम फ्रेम के विक्रेताओं के भुगतान तथा पूँजी की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगे।

भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी)

भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक भारत की स्वतंत्र वित्तीय संस्था है जो सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों की वृद्धि एवं विकास के लक्ष्य से स्थापित किया गया है। यह लघु उद्योग क्षेत्र के संवर्द्धन, वित्तपोषण और विकास तथा इसी तरह की गतिविधियों में लगी अन्य संस्थाओं के कार्यां में समन्वयन के लिए एक प्रमुख विकास वित्तीय संस्था है। 2 अप्रैल 1990 को भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक की स्थापना हुई।
दि बैंकर, लंदन की हालिया रैंकिंग में भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक ने विश्व के 30 सर्वोच्च विकास बैंकों में अपनी जगह बनाए रखी है । दि बैंकर, लंदन के मई 2001 अंक के अनुसार पूँजी व आस्तियों की दृष्टि से भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक का स्थान 25वाँ था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement