अंतर्राष्ट्रीय कर सहयोग ढांचे पर यूएनजीए प्रस्ताव : मुख्य बिंदु

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने सर्वसम्मति से संयुक्त राष्ट्र की अंतर-सरकारी प्रक्रिया के आधार पर एक अंतर्राष्ट्रीय कर सहयोग ढांचा या साधन विकसित करने के लिए एक प्रस्ताव अपनाया है। नाइजीरिया ने 54 अफ्रीकी देशों के संघ की ओर से यह प्रस्ताव पेश किया था।

यूएनजीए का यह प्रस्ताव क्यों महत्वपूर्ण है?

वैश्विक कर सहयोग पर प्रस्तावित संयुक्त राष्ट्र की रूपरेखा दुनिया भर में कराधान के नियामक के रूप में आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (Organisation for Economic Co-operation & Development) की 60 साल की भूमिका को समाप्त कर देगी। इसी तरह की रूपरेखा OECD द्वारा प्रस्तावित की गई है। यह लगभग एक दशक से ओईसीडी में विकास के अधीन है लेकिन इसका अंतिम मसौदा अभी दिया जाना बाकी है। संयुक्त राष्ट्र का प्रस्तावित ढांचा अंतर्राष्ट्रीय कर नियमों पर संयुक्त राष्ट्र और ओईसीडी के बीच शक्ति संघर्ष को समाप्त कर देगा।

इस प्रस्तावित ढांचे से अफ्रीका और एशिया के विकासशील देशों को लाभ होने की उम्मीद है।

डिजिटल अर्थव्यवस्था से संबंधित कर मुद्दों को कवर करने के अलावा, अवैध धन प्रवाह की समस्या पर ध्यान केंद्रित करने और उसके लिए समाधान प्रदान करने की भी उम्मीद है। इसका वैश्विक और स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं, व्यवसायों और दुनिया भर के लोगों पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

“दो स्तंभ समाधान” क्या है?

“Two Pillar Solution”, जिसका नेतृत्व OECD ने किया था, का उद्देश्य डिजिटल अर्थव्यवस्था के भीतर होने वाली कर चुनौतियों का समाधान करना है। यह स्तंभ एक सबसे बड़े और सबसे लाभदायक बहुराष्ट्रीय उद्यमों से संबंधित है और अपने लाभ का एक हिस्सा उन देशों को पुनः आवंटित करता है जहां वे अपने उत्पादों और सेवाओं को बेचते हैं। स्तम्भ दो के अनुसार, €750 मिलियन से अधिक वार्षिक राजस्व वाली कोई भी कंपनी वैश्विक न्यूनतम कॉर्पोरेट कर के अधीन होगी।

दो-स्तंभ समाधान के साथ विकसित, विकासशील और उभरती अर्थव्यवस्थाओं सहित सभी अर्थव्यवस्थाओं को अतिरिक्त कर राजस्व प्राप्त होगा। 

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments