अगस्त में WPI मुद्रास्फीति बढ़कर 11.39% हुई

खाद्य पदार्थों की कीमतों में नरमी के बावजूद विनिर्मित वस्तुओं की ऊंची कीमतों के कारण अगस्त 2021 में थोक मूल्य-आधारित मुद्रास्फीति (WPI) मामूली बढ़कर 11.39% हो गई।

मुख्य बिंदु 

  • अगस्त में मुद्रास्फीति दो महीने (जून और जुलाई) की सहज प्रवृत्ति से उलट गई।
  • WPI लगातार पांचवें महीने दहाई अंक में रहा।
  • जुलाई 2021 में WPI मुद्रास्फीति 11.16% थी।
  • अगस्त 2020 में WPI मुद्रास्फीति 0.41% थी।
  • खुदरा मुद्रास्फीति अगस्त में घटकर चार महीने के निचले स्तर 5.3% पर आ गई, जो इससे पिछले महीने 5.59% थी।

WPI अगस्त में क्यों बढ़ा?

अगस्त 2021 में मुद्रास्फीति की उच्च दर मूल रूप से गैर-खाद्य वस्तुओं, कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, खनिज तेल, निर्मित उत्पादों जैसे कपड़ा, खाद्य उत्पाद, रसायन और रासायनिक उत्पादों आदि की कीमतों में वृद्धि के कारण है।

खाद्य मुद्रास्फीति

खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति में लगातार चौथे महीने कमी आई। जुलाई 2021 में शून्य प्रतिशत की तुलना में अगस्त 2021 में यह (-) 1.29% दर्ज किया गया था। उदाहरण के लिए, प्याज में मुद्रास्फीति 62.78% थी जबकि दालों में 9.41% थी। सब्जियों के लिए यह अगस्त 2021 में (-) 13.30% दर्ज किया गया था। कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस में मुद्रास्फीति 40.03% थी।

खुदरा मुद्रास्फीति

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) मुख्य रूप से खुदरा मुद्रास्फीति को ध्यान में रखता है। अगस्त 2021 की मौद्रिक नीति में RBI ने ब्याज दरों को रिकॉर्ड निचले स्तर पर अपरिवर्तित रखा है। RBI ने वर्ष 2021-22 के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) या खुदरा मुद्रास्फीति 5.7% रहने का अनुमान लगाया है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments