अमेरिका ने तुर्की पर CAATSA लगाया

हाल ही में अमेरिका ने एस-400 रूसी मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के लिए तुर्की पर प्रतिबंध लगा दिया है। गौरतलब है कि भारत भी रूस से S-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीद रहा है।

मुख्य बिंदु

इन प्रतिबंधों की मंजूरी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के प्रशासन द्वारा दी गयी है। यह किसी नाटो सहयोगी देश के खिलाफ एक दुर्लभ प्रतिबन्ध है।

संयुक्त राज्य अमेरिका ने तुर्की की सैन्य खरीद एजेंसी लिए सभी अमेरिकी निर्यात लाइसेंस और क्रेडिट पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके अलावा तुर्की के राष्ट्रपति इस्माइल डेमीर पर अमेरिका में यात्रा या संपत्ति रखने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

पृष्ठभूमि

2019 में, तुर्की ने  2.5 बिलियन डॉलर में इस मिसाइल सिस्टम की डिलीवरी ली थी। तुर्की ने चेतावनियों की उपेक्षा की, इस प्रकार के सैन्य सहयोग नाटो के साथ संगत नहीं हैं। चूंकि, इस तरह के सौदे रूस को पश्चिमी विमानों में अपना लक्ष्य सुधारने में मदद करेंगे। इससे पहले अमेरिका ने अपने F-35 एयरक्राफ्ट कार्यक्रम से तुर्की को बाहर कर दिया था और इस विमान को खरीदने से रोक दिया था। हालाँकि, तब CAATSA को तुर्की पर नहीं लगाया  गया था।

CAATSA (Countering America’s Adversaries Through Sanctions Act)

यह अमेरिका का संघीय कानून है। इस कानून पर 2 अगस्त, 2017 को अमेरिका ने हस्ताक्षर किए थे। तब से, इस कानून के द्वारा ईरान, उत्तर कोरिया और रूस जैसे देशों पर प्रतिबंध लगाए गये हैं। यह कानून उन कार्यों को दंडित करने के उद्देश्य से पारित किया गया था जो अमेरिका की विदेश-नीति और सुरक्षा हितों को खतरे में डालते हैं। यह रूसी रक्षा क्षेत्र के साथ व्यापार लेनदेन में संलग्न व्यक्तियों पर प्रतिबंध के द्वारा रूस को दंडित करने के लिए लागू किया गया था। इस कानून का मकसद रूसी सरकार को प्राप्त होने वाले राजस्व को सीमित करना है।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments