अमेरिका बना भारत का दूसरा सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता

सऊदी अरब को पछाड़ कर अमेरिका भारत का दूसरा सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता बन गया है। ओपेक+ (OPEC+) आपूर्ति कटौती की भरपाई के लिए रिफाइनर ने सस्ते अमेरिकी कच्चे तेल खरीद को रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ाया है।

मुख्य बिंदु

सऊदी अरब ने पेट्रोलियम निर्यातक देशों और उसके सहयोगियों (OPEC+) के समझौते के अनुरूप स्वैच्छिक अतिरिक्त 1 मिलियन बीपीडी आउटपुट कम करने का निर्णय लिया है।

भारत का तेल आयात

अमेरिका से भारत का तेल आयात फरवरी 2021 में 48% बढ़कर 5,45,300 बैरल प्रति दिन (bpd) के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गया था। फरवरी में भारत के कुल आयात का यह 14 प्रतिशत था। दूसरी ओर, जनवरी 2021 से सऊदी अरब से भारत का आयात 42 प्रतिशत घट गया हा। यह घटकर 4,45,200 बीपीडी के दशक के निचले स्तर पर आ गया है।

पृष्ठभूमि

भारत दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा तेल आयातक और उपभोक्ता है।  भारत ने वैश्विक स्तर पर तेल की कीमत में वृद्धि में योगदान के लिए सऊदी अरब की स्वैच्छिक कटौती की ओर भी इशारा किया था।

शीर्ष विक्रेता

आंकड़ों के अनुसार, इराक भारत के लिए शीर्ष तेल विक्रेता बना रहा। हालाँकि तेल की खरीद पांच महीने के निचले स्तर तक 23% घटकर 8,67,500 बीपीडी रह गई है। इराक ने ओपेक के उत्पादन सौदे के तहत दायित्वों को पूरा करने के लिए 2021 में भारतीय रिफाइनर्स को तेल की वार्षिक आपूर्ति में 20 प्रतिशत की कटौती की है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments