अरुणाचल प्रदेश में एक साथ मोनाल की दो प्रजातियां पाई गयी

मध्य अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सियांग जिले में स्थानीय वन्यजीव उत्साही लोगों द्वारा मोनाल की दो प्रजातियों को एक साथ देखा गया।

मुख्य बिंदु

  • खोजी गई प्रजाति हिमालयन मोनाल है, इसे लोफोफोरस इम्पेजेनस (Lophophorus Impejanus) भी कहा जाता है। यह अफगानिस्तान से पूर्वोत्तर भारत में व्यापक रूप से पाया जाता है।
  • जबकि, दूसरी प्रजाति स्क्लेटर मोनाल (Sclater’s Monal) है जिसे लोफोफोरस स्क्लेटेरी (Lophophorus Sclateri) भी कहा जाता है।यह दक्षिणी चीन और उत्तरी म्यांमार में पाया जाता है। इसे IUCN (International Union of Conservation of Nature) द्वारा असुरक्षित के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। इसे कोमजी लिपिक (Komji Lipik) के पास 2,850 मीटर की ऊंचाई पर देखा गया।
  • इन पक्षियों को समुद्र तल से 4,173 मीटर की ऊंचाई पर माउंट एको डंबिंग (Mount Eko Dumbing) पर देखा गया।

मोनाल पक्षी (Monal)

मोनाल पक्षी तीतर (pheasant) परिवार के जीनस लोफोफोरस से संबंधित है जिसे फासियानिडे (Phasianidae) कहा जाता है। नर पक्षियों में रंगीन, इंद्रधनुषी पंख होते हैं। वे आहार के रूप में जड़ों, बल्बों और कीड़ों को पसंद करते हैं। आवास विनाश और शिकार के कारण उन्हें कमजोर के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

सियांग जिला (Siang District)

यह अरुणाचल प्रदेश का 21वां जिला है जिसे पश्चिम सियांग और पूर्वी सियांग जिलों को विभाजित करके बनाया गया था। इसका उद्घाटन 27 नवंबर, 2015 को तत्कालीन मुख्यमंत्री नबाम तुकी द्वारा किया गया था। इसका नाम सियांग नदी पर रखा गया है जो इस जिले से होकर बहती है। माना जाता है कि सियांग की उत्पत्ति हिमालय के उत्तरी हिस्से में अंगसी ग्लेशियर (Angsi Glacier) से हुई है। इस जिले में मुख्य रूप से अरुणाचल प्रदेश की आदि जनजाति (Adi Tribe) निवास करती है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments