अरेसिबो टेलिस्कोप : मुख्य तथ्य

प्यूर्टो रिको के अरेसिबो टेलीस्कोप को 1963 में बनाया गया था। यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सिंगल-डिश रेडियो टेलीस्कोप है। यह हाल ही में ढहने के कारण खबरों में था। वर्तमान में इसका स्वामित्व यूएस नेशनल साइंस फाउंडेशन के पास है। इसने कई महत्वपूर्ण खोजें की हैं, इस टेलिस्कोप ने यह पता लगाया था कि बुध 59 दिनों में परिक्रमा करता है न कि 88 दिन में। अपने वैज्ञानिक योगदान के अलावा, यह प्यूर्टो रिको के लिए एक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक प्रतीक है। इसने लगभग 90,000 आगंतुकों को सालाना आकर्षित किया।

अरेसिबो टेलीस्कोप

अरेसिबो टेलीस्कोप  में क्षुद्रग्रहों, ग्रहों, आयन मण्डल का निरीक्षण करने के लिए सबसे शक्तिशाली राडार लगाया गया है। इस टेलिस्कोप ने बाह्य ग्रहों, दूरस्थ आकाशगंगाओं में प्री-बायोटिक अणुओं और पहले मिलीसेकंड पल्सर की खोज की है। प्रीबायोटिक अणु ऐसे पदार्थ हैं जो जीवन की उत्पत्ति का कारण बनते हैं।
टेलीस्कोप ने  बाह्य-ग्रहों में जीवन की खोज में एक हब के रूप में कार्य किया था।

1993 में, वैज्ञानिक जोसेफ टेलर और रसेल हुल्स को भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वे इस टेलिस्कोप की मदद से एक बाइनरी पल्सर की निगरानी करते थे। यह गुरुत्वाकर्षण तरंगों के अस्तित्व का पहला प्रमाण था।

यह टेलीस्कोप प्यूर्टो रिको का प्रतीक बन गया था। इसने हर साल 90000 से अधिक आगंतुकों को आकर्षित किया।

Categories:

Tags: , ,

« »

Advertisement

Comments