असम : स्थानीय चुनावों में बैलट पेपर की जगह EVM का इस्तेमाल किया जायेगा

असम के मंत्रिमंडल ने मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा की अध्यक्षता में हुई बैठक में गुवाहाटी नगर निगम के चुनावों में कागजी मतपत्रों को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) से बदलने के प्रस्ताव को मंजूरी दी।

मुख्य बिंदु 

  • गुवाहाटी नगर निगम (संशोधन) विधेयक, 2022 को मतपत्रों को EVM से रीप्लेस करने के लिए जो मंजूरी दी गई थी, यह घोषणा चुनावों में दक्षता और पारदर्शिता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से की गई है।

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) 

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) वोटिंग मशीन हैं जो वोट डालने और गिनने में मदद करती हैं। मतदान इकाई और नियंत्रण इकाई ईवीएम के दो भाग हैं। एक केबल इन इकाइयों को आपस में जोड़ती है। पीठासीन अधिकारी या मतदान अधिकारी EVM की कंट्रोल यूनिट का प्रभारी होता है। बैलेट यूनिट को वोटिंग कंपार्टमेंट में रखा जाता है ताकि कोई व्यक्ति अपना वोट डाल सके। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि मतदान अधिकारी किसी की पहचान की पुष्टि कर सके। मशीन पर उम्मीदवारों के नाम और/या प्रतीकों की एक सूची होती है जिसके आगे नीले बटन का बटन होता है। व्यक्ति उम्मीदवार के नाम के आगे वाले बटन को दबाकर वोट कर सकता है।

कैबिनेट बैठक में लिए गए अन्य निर्णय

कैबिनेट बैठक में भूमि प्रीमियम दरों में संशोधन, पुराने कानूनों को निरस्त करने, श्रमिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने, व्यवसाय करने में आसानी, नाबार्ड से ऋण लेने, कानून लागू करने वालों को सशक्त बनाने, GMC चुनावों में पारदर्शिता आदि से संबंधित कई महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए गए। 

प्रारंभिक शिक्षा, पशुपालन एवं पशु चिकित्सा एवं सिंचाई विभागों में RIDF-XXVII के तहत स्वीकृत परियोजनाओं को जारी रखने के लिए नाबार्ड से 142 करोड़ रुपये का ऋण भी लिया जाएगा। 

COVID-19 महामारी जैसी आपदाओं का सामना करने के लिए आकस्मिक निधि कोष को 200 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2,000 करोड़ रुपये कर दिया गया है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments